लखनऊ : समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने अयोध्या के विकास और प्रदेश की बिगड़ती कानून व्यवस्था को लेकर वर्तमान योगी सरकार और राजभवन पर निशाना साधा. अखिलेश ने ट्वीट के जरिए सरकार पर तंज कसते हुए लिखा कि ” अयोध्या के लोग पूछ रहे हैं कि आर्ट गैलरी, परिक्रमा मार्ग के सुदृढ़ीकरण और वृक्षारोपण के लिए बजट क्यों नहीं दिया जा रहा ? कम-से-कम अयोध्या के लिए दिये गये ‘वचनों’ को तो जुमला न बनाएं ”Also Read - मुस्लिम-यादव फॉर्मूले को नया अर्थ दे रही सपा, अखिलेश बोले- नई सपा में 'एम-वाई' का मतलब महिला और युवा

Also Read - केशव प्रसाद मौर्य का अखिलेश यादव पर निशाना, 'रोजा-इफ्तार पार्टी करने वाले अब मंदिर-मंदिर घूम रहे हैं'

उत्तर प्रदेश में अराजकता पर राजभवन मौन क्यों ? : अखिलेश
अखिलेश यादव ने प्रदेश की कानून – व्यवस्था को लेकर वर्तमान बीजेपी सरकार को आड़े हाथ लिया, साथ ही राजभवन पर भी निशाना साधा. अखिलेश ने कहा कि अभी कुछ समय पूर्व ही जब प्रदेश में सपा सरकार थी तो राजभवन आए दिन उसे नसीहतें देता रहता था. लेकिन वर्तमान में जब बीजेपी की योगी सरकार सत्ता में है और प्रदेश की कानून व्यवस्था पूरी तरह से ध्वस्त है तब राजभवन चुप क्यों है ?अखिलेश ने कहा कि पूरा राज्य अराजकता की गिरफ्त में है, इस पर भी राजभवन का मौन आश्चर्यजनक है. कासगंज, इलाहाबाद और वाराणसी जैसी घटनाएं प्रदेश की बिगड़ी कानून व्यवस्था का एक उदाहरण मात्र है. पूर्व सीएम अखिलेश ने कहा कि प्रदेश में अपराधियों के बढ़े-हौसलों के आगे शासन-प्रशासन लाचार नजर आ रहा है. बावजूद इसके सरकार द्वारा इन घटनाओं के लिए किसी की जवाबदेही तय नहीं की जा रही है. Also Read - UP Assembly Election 2022: यूपी चुनाव के लिए ममता बनर्जी-अखिलेश यादव साथ आएंगे! TMC की गठबंधन पर नज़र

सीएम योगी के सीतापुर दौरे पर भी उठाए सवालिया निशान
गौरतलब है  कि सीतापुर जिले में पिछले 6 माह से आदमखोर कुत्तों का आतंक छाया हुआ है. कुत्तों के हमलों में 1 दर्जन बच्चों की मौत हो गई और 2 दर्जन से ज्यादा घायल हो गए. सीतापुर के आदमखोर कुत्तों का मामला विदेशी मीडिया ने भी प्रमुखता से उठाया था. अखिलेश ने मीडिया को रिलीज किए अपने बयान में कहा कि मुख्यमंत्री को सीतापुर जाने की फुरसत तब मिली, जब उन्होंने कुत्तों से दर्जनों बच्चों की जान बचाने में विफल सरकार पर सवाल खड़ा किया. मृत बच्चे के परिवारीजनों को मदद पर भी सरकार का रवैया संवेदनहीन ही है.

इलाहाबाद में अधिवक्ता की मौत मामले में बोले अखिलेश
इलाहाबाद में अधिवक्ता की मौत मामले पर सपा प्रमुख ने कहा कि राज्य में दहशत का माहौल है. दिनदहाड़े सरेराह साथी की हत्या से आक्रोशित अधिवक्ता इलाहाबाद सहित पूरे राज्य में हड़ताल पर हैं. भाजपा सरकार बताए कि कानून का शासन कहां है ? उन्होंने यहां तक कहा कि कोई पहर नहीं बचता, जब किसी न किसी दुर्घटना से राज्य के नागरिकों को दो-चार न होना पड़ता हो. बागपत में दो बहनों ने तो स्कूल जाना ही छोड़ दिया. अब वे घर से बाहर भी नहीं निकल पा रही हैं. अखिलेश ने कहा कि प्रदेश में हो रहे एनकाउंटर भी सवालों के घेरे में हैं.  एक तरफ तो मुख्यमंत्री योगी का दावा है कि मुठभेड़ से रामराज स्थापित होता है, जबकि अपराधी खुलेआम गंभीर से गंभीर अपराधों को अंजाम दे रहे हैं.
( इनपुट एजेंसी )