फिरोजाबाद: उत्तर प्रदेश के फिरोजाबाद जिले एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है. जहां घरेलू कलह के चलते एक महिला ने अपने तीन मासूम बच्चों समेत खुद को आग के हवाले कर दिया जिसके चलते महिला व उसके दो बच्चों की जिंदा जलकर मौत हो गई जबकि तीसरा बच्चा अस्पताल में मौत और जिन्दगी के बीच जंग लड़ रहा है.

पड़ोसियों के सूचना देने पर पहुंची पुलिस
जानकारी के मुताबिक जनपद के लाइनपार इलाके में घरेलू विवाद में एक मां ने अपने तीन बच्चों समेत कमरा बंद कर आग लगा ली. जब तक पड़ोसियों को हादसे का पता चलता और वो मदद के लिए आते तब तक महिला और उसके दो बच्चों की जिंदा जलकर मौत हो चुकी थी. एक बच्चा अभी भी मौत से जूझ रहा है. पड़ोसियों की सूचना पर पहुंची पुलिस ने महिला के पति को हिरासत में ले लिया है.

रिटा.कर्नल की शिकायत पर डीएम ने एडीएम समेत आधा दर्जन लोगों के खिलाफ FIR के दिए आदेश

आर्थिक तंगी बनी वजह
पुलिस के मुताबिक, लाइनपार क्षेत्र के मोहल्ला रामनगर निवासी मजदूर पवन ओझा उर्फ बंटी अपनी पत्नी अनीता देवी (32) और तीन बच्चों बेटी रागिनी (8), बेटे अंशुल (6) और साहिल (5) के साथ रहता था. बताते हैं कि परिवार में आर्थिक तंगी के कारण पति-पत्नी में अक्सर विवाद होता था. शुक्रवार रात को भी दोनों में काफी विवाद हुआ जिसके बाद शनिवार सुबह पवन अपने काम पर चला गया. उसके जाने के बाद अनीता ने सभी बच्चों को अपने पास बुलाकर कमरे की सभी दरवाजे और खिड़की बंद कर दी. फिर अपने साथ तीनों बच्चों पर केरोसिन डालकर आग लगा दी.

UP: बस्ती जेल में प्रशासन का छापा, जमीन खोद कर निकाले गए मोबाइल फोन

घर बंद होने से उनकी आवाज लोगों तक नहीं पहुंच सकी. दोपहर बाद भी घर का दरवाजा नहीं खुलने पर पड़ोसियों को शक हुआ. उन्होंने छत के रास्ते घर के अंदर जाकर देखा तो वहां की स्थिति देखकर सिहर उठे. अंदर अनीता, बेटे साहिल व बेटी रागिनी के शव पड़े हुए थे. वहीं 5 वर्षीय मासूम अंशुल गंभीर रूप से झुलसा हुआ तड़प रहा था.

62 साल की ‘माफिया मम्मी’ गिरफ्तार,16 साल से क्राइम की दुनिया में थी एक्टिव

पड़ोसियों से सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने दरवाजा तोड़ कर उन्हें बाहर निकला, पुलिस ने तीनों शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेजा और गंभीर अंशुल को जिला अस्पताल पहुंचाया, जहां उसका इलाज चल रहा है. पुलिस ने पूछताछ के लिए पति को हिरासत में ले लिया है. मामले की तफ्तीश जारी है. (इनपुट एजेंसी)