Uttar Pradesh Crime: दो साल पहले दो दरिंदों ने 12 साल की मासूम के साथ बलात्कार कर उसकी गला घोंटकर हत्या कर दी थी. इस घटना को बच्ची के छोटे भाई ने अपनी आंखों से देख लिया था. दोनों आरोपियों ने बच्चे का गला रेत डाला था जिससे उसकी आवाज चली गई थी. उस निशब्द हुए मासूम भाई नितिन की ‘चीखती’ गवाही ने अपनी बड़ी बहन को इंसाफ दिला दिया और अब आरोपियों को फांसी की सजा दी जाएगी. Also Read - Ballia Shooting Case: मुख्य आरोपी धीरेंद्र 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया

दो साल पहले 12 साल की मासूम के साथ दो नौकरों ने की थी हैवानियत Also Read - महिला सुरक्षा के मुद्दे पर प्रियंका गांधी ने योगी सरकार से किया सवाल, पूछा- मिशन बेटी बचाओ है या फिर...

घटना हापुड़ जिले की है, जहां  दो साल पहले 12 साल की बच्ची के साथ घर के ही दो नौकरों ने हैवानियत कर उसका कत्ल कर दिया था और वहां मौजूद छोटे भाई को भी गला रेतकर घायल कर दिया था. इस वारदात में छोटे भाई की जान तो बच गई, लेकिन वह अपनी आवाज खो बैठा था. इस सबके बावजूद इस दरिंदगी का वह अकेला चश्मदीद गवाह था. Also Read - UP News: जमीन हड़पने की साजिश के तहत पुजारी ने ही खुद पर चलवाई थी गोली, पुलिस ने 7 को किया गिरफ्तार

अदालत में निशब्द भाई ने कागज-कलम और इशारे से गवाही देकर बर्बरता बयां की तो कोर्ट ने दोनों आरोपियों को फांसी की सजा सुना दी. हापुड़ के इतिहास में यह फांसी की पहली सजा है.

अदालत ने सुनाई फांसी की सजा

इस मामले में विशेष लोक अभियोजक पोक्सो अधिवक्ता हरेन्द्र त्यागी के अनुसार हापुड़ अपर जिला एवं सत्र न्यायधीश एवं विशेष न्यायधीश पोक्सो प्रथम अदालत में न्यायाधीश वीना नारायन ने गुरुवार को अपना फैसला सुनाया है. फैसले में बच्ची से गैंगरेप के बाद नृशंस हत्या और 10 साल के छोटे भाई की गर्दन काटने के आरोप में दो दोषी अंकुर तैली तथा सोनू उर्फ पव्वा को फांसी की सजा सुना दी है.दोनों दोषियों को मृत्युदंड की सजा देते हुए कहा कि दोनों को जब तक फांसी पर लटकाया जाए, जब तक उनकी मौत न हो जाए.

ये थी घटना…

हापुड़ में देहात थाना क्षेत्र के मोहल्ला फूलगढ़ी में 5 सिंतबर 2018 की दोपहर 12 साल की बहन के साथ आठ साल का नितिन स्कूल से घर आया था. उनकी मां पुष्पा दिल्ली गई हुई थी, जबकि पिता सानू यादव खेत पर थे. घर के ही दोनों नौकरों ने मासूम बच्ची के साथ गैंगरेप कर उसकी गला दबाकर हत्या कर दी थी और शव बोरे में बंदकर भूंसे में दबा दिया था. इसके बाद नितिन को गला रेत कर घायल कर दिया था और दोनों आरोपियों ने इसके बाद डकैती की अफवाह फैला दी थी.