अलीगढ़ : एएमयू के छात्रों ने जिन्ना की तस्वीर को लेकर उपजे विवाद के बाद चल रहे अपने धरने को रमजान से पूर्व समाप्त कर दिया. एएमयू वीसी द्वारा छात्रों को जूस पिलाकर उनकी हड़ताल समाप्त करवाई थी. एमयू छात्रसंघ द्वारा 15 दिन से चल रहे धरने को समाप्त किए जाने का स्वागत करते हुए अलीगढ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) के कुलपति प्रोफेसर तारिक मंसूर ने शुक्रवार को कहा कि यह पूरे एएमयू समुदाय के लिए छात्रों की तरफ से रमजान का तोहफा है. Also Read - AMU: कुलपति ने 22 मार्च तक स्थगित की कक्षाएं, 31 मार्च तक नहीं होगा कोई बड़ा प्रोग्राम

छात्रों ने परिसर में बेहतरीन अनुशासन और सांप्रदायिक सद्भाव बनाए रखा
वीसी तारिक मंसूर ने मीडिया से बातचीत में कहा कि एएमयू के छात्रों द्वारा उनके लोकतांत्रिक अधिकारों का इस्तेमाल करने की वह प्रशंसा करते हैं. उन्होंने कहा इस पूरे घटनाक्रम दौरान छात्रों ने परिसर में बेहतरीन अनुशासन और सांप्रदायिक सद्भाव बनाए रखा. उन्होंने कहा कि पूरे आंदोलन के दौरान हजारों छात्रों ने हिस्सा लिया लेकिन तोड़फोड़ की एक भी घटना नहीं हुई. भड़काए जाने के बावजूद छात्रों ने एएमयू के पारंपरिक मूल्यों को बनाए रखा. बावजूद इसके उन्होंने संयम बरता और भाईचारा बनाए रखा. उन्होंने कहा कि पिछले दिनों जिन्ना की तस्वीर को लेकर एएमयू परिसर सुर्खियों में रहा. जिन्ना की यह तस्वीर विश्वविद्यालय के छात्रसंघ भवन में एक दीवार पर दशकों से लगी है. Also Read - देशद्रोह के मामले में शरजील इमाम का पुलिस रिमांड बढ़ा, तीन दिन तक और होगी पूछताछ

शांति और आत्मावलोकन का महीना है रमजान
एएमयू छात्रसंघ ने कक्षाओं के बहिष्कार का आह्वान किया था और परिसर में जिन्ना की तस्वीर को लेकर हुई हिंसा की न्यायिक जांच की मांग करते हुए अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल पर बैठ गए थे.
छात्र संघ ने उन दक्षिणपंथी कार्यकर्ताओं के खिलाफ कार्रवाई की मांग की, जिन्होंने जिन्ना की तस्वीर हटाने की मांग करते हुए परिसर में घुसने का दुस्साहस किया था. इसके अलावा उन्होंने एएमयू छात्रों पर लाठीचार्ज करने वाले पुलिस अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की. तारिक मंसूर ने कहा कि यह महीना शांति और आत्मावलोकन का होता है. मुझे यकीन है कि जब छात्र समुदाय अगले शैक्षिक वर्ष में शुरूआत करेगा तो हम अपनी उपलब्धियों और कमियों का विश्लेषण करेंगे.
(इनपुट एजेंसी ) Also Read - असदुद्दीन ओवैसी पर गिरिराज सिंह का जुबानी हमला, बोले- बना रहे देशद्रोही सेना