इटावा: सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने गठबंधन को लेकर बड़ा बयान दिया है. अखिलेश ने कहा कि उन्हें अपनी पार्टी (सपा) की चिंता नहीं है. उनका मकसद बीजेपी को सत्ता से बाहर करना है. उन्होंने कहा कि हम सिर्फ ये चाहते हैं कि हार जगह ऐसा प्रत्याशी खड़ा हो जिससे बीजेपी का प्रत्याशी हार जाए. इसके लिए हम किसी भी गठबंधन को तैयार हैं. चाहे बसपा हो, कांग्रेस हो, रालोद हो या फिर कोई और पार्टी, किसी से भी गठबंधन को तैयार हैं.

यूपी में गठबंधन के आगे बेबस भाजपा, यही हाल रहा तो 2019 में 23 सीटों पर सिमट सकती है पार्टी

कम सीटें मिलने पर भी करेंगे गठबंधन
अखिलेश यादव आज इटावा पहुंचे हैं. अपने गांव सैफई में उन्होंने सपा नेताओं और कार्यकर्ताओं से मुलाकात की. इस दौरान उन्होंने पत्रकारों से भी बात की. पत्रकारों से उन्होंने कहा कि वह हर हाल में गठबंधन को तैयार हैं. उन्होंने कहा कि चुनाव में उतरने के लिए सपा को गठबंधन के तहत कम भी सीटें मिलें फिर भी वह तैयार हैं. उन्होंने कहा कि हमारा ध्यान 2019 के लोकसभा चुनाव पर है.

मुलायम बोले, सपा-बसपा का गठबंधन मजबूत, दिल्ली पहुंचने से कोई नहीं रोक सकता

जनता ने उप चुनाव में बीजेपी को नकारा
अखिलेश ने कहा कि जनता ने नूरपुर और कैराना में बीजेपी को नकार दिया है. इससे ये साबित हुआ कि योगी जहां जाते हैं, बीजेपी वहां हार जाती है. बता दें कि सपा ने चार उप चुनावों में अन्य पार्टियों के साथ गठबंधन कर चारों सीटें जीत ली थीं. मायावती सीटों पर बातचीत के बाद गठबंधन की बात कह चुकी हैं. माना जा रहा है कि सपा, कांग्रेस और बसपा यूपी में लोकसभा चुनाव मिलकर लड़ेंगे. इससे बीजेपी खेमे में हलचल है.