गाजियाबाद में उत्तर प्रदेश आवास विकास परिषद द्वारा अधिग्रहीत जमीन के एवज में पर्याप्त मुआवजे की मांग कर रहे 17 किसानों ने बुधवार को एक खेत में गड्ढे खोदे और उनमें बैठ गए. मंडोला लोनी और जिले के छह अन्य गांवों के प्रदर्शनकारी किसान गड्ढे में बैठे रहे और उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन उचित मुआवजे की उनकी मांग पर ध्यान नहीं दे रहा है.Also Read - आंदोलन के दौरान मरने वाले किसानों की याद में स्पोर्ट्स स्टेडियम का निर्माण करेगी पंजाब सरकार, CM ने 1 करोड़ रुपये देने का किया ऐलान

अतिरिक्त जिला मजिस्ट्रेट, उप संभागीय मजिस्ट्रेट और लोनी के क्षेत्राधिकारी किसानों को शांत कराने के लिए संबंधित स्थल पर गए लेकिन किसान अपनी मांग पर अडिग रहे. Also Read - 'बड़े दिल वाले नेता के समझदार शब्द', आखिर वरुण गांधी ने अब किसके खिलाफ खोल दिया है मोर्चा

Also Read - सुप्रीम कोर्ट ने पूछा, जब अदालत ने कृषि कानूनों पर रोक लगा रखी है, तो फिर सड़कों पर प्रदर्शन क्यों हो रहे हैं?

जिला मजिस्ट्रेट राकेश कुमार सिंह ने कहा कि प्रशासन हमेशा किसानों के साथ उनकी समस्याओं के समाधान के लिए बातचीत को तैयार है. उन्होंने कहा कि किसी भी बाहरी व्यक्ति की दखलअंदाज़ी बर्दाश्त नहीं की जाएगी और प्रदर्शनकारी किसानों को ‘सीआरपीसी’ की धारा 144 का उल्लंघन नहीं करने का नोटिस दिया गया है.