चंदौली/नई दिल्ली: भाजपा विधायक साधना सिंह द्वारा बसपा सुप्रीमो मायावती पर अभद्र टिप्पणी करना का मामला तूल पकड़ता जा रहा है.वहीं, नई दिल्ली में राष्ट्रीय महिला आयोग ने बसपा सुप्रीमो पर की गई टिप्पणी पर स्वत: संज्ञान लिया है. दूसरी ओर बसपा नेता ने विधायक के खिलाफ चंदौली के बबुरी थाने में शिकायत दर्ज कराई है. मामला तूल पकड़ता देख आज पत्र जारी कर साधना सिंह ने अपने बयान पर खेद जताया है. साधना सिंह ने कहा कि उनका इरादा किसी को चोट पहुंचाने का नहीं था. वह तो सिर्फ गेस्ट हाउस कांड याद दिला रही थीं. Also Read - MP Bypolls: कमलनाथ ने BJP की महिला प्रत्याशी को कहा 'आइटम' तो भड़कीं मायावती, कांग्रेस से की यह मांग...

Also Read - Bihar Elections 2020: ओवैसी, कुशवाहा ने बिहार में 6 दलों का नया मोर्चा बनाया

VIDEO: बीजेपी MLA साधना सिंह ने मायावती को बताया किन्नर से भी बदतर, कहा- न महिला लगती हैं न पुरुष Also Read - MP Assembly by election: बीएसपी की तीसरी लिस्‍ट में 9 कैंड‍िडेट्स, अब तक मध्‍य प्रदेश के 27 उम्मीदवार घोषित

ये दिया था बयान, अब मांगी माफी

मुगलसराय क्षेत्र से भाजपा विधायक साधना सिंह ने चंदौली जिले के करणपुरा गांव में शनिवार को आयोजित किसान कुंभ कार्यक्रम में मायावती का जिक्र करते हुए कहा, “हमको तो उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री ना तो महिला लगती हैं और ना पुरुष. जिस महिला का इतना बड़ा चीरहरण हुआ लेकिन कुर्सी पाने के लिए उसने अपने सारे सम्मान को बेच दिया. ऐसी महिला मायावती का हम इस कार्यक्रम के माध्यम से तिरस्कार करते हैं.’ उन्होंने आरोप लगाया, “वह महिला नारी जात पर कलंक हैं. जिस महिला की आबरू को भाजपा के नेताओं ने लुटते-लुटते बचाया उसी ने सुख-सुविधा के लिए अपमान को पी लिया. ऐसी महिला तो किन्नर से भी ज्यादा बदतर है. उसकी किस श्रेणी में गिनती करनी है.’ बवाल बढ़ते देख साधना ने अपने बयान पर माफी मांगी. इस पत्र में साधना ने कहा कि उनकी मंशा किसी को अपमानित करने की नहीं थी बल्कि वह गेस्ट हाउस कांड याद दिला रही थीं. यदि इससे किसी को कष्ट हुआ है तो वह खेद प्रकट करती हैं.

बसपा नेता ने चंदौली में दर्ज कराया मुकदमा

इस बीच, बसपा के वाराणसी एवं आजमगढ़ मण्डल के मुख्य जोनल प्रभारी रामचंद्र गौतम ने भाजपा विधायक साधना सिंह के खिलाफ अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति अत्याचार निरोधक कानून और भारतीय दण्ड विधान की संबंधित धाराओं में मामला दर्ज करके कार्रवाई के लिये बबुरी थाने में शिकायत की है. मामला दर्ज करने की मांग को लेकर बसपा कार्यकर्ताओं ने पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार सिंह के आवास के बाहर धरना—प्रदर्शन भी किया.

बसपा नेता, अखिलेश ने साधा निशाना

उधर, बसपा के नेता सतीशचंद्र मिश्रा ने ट्विटर पर कहा कि सपा बसपा के गठबंधन के बाद भाजपा नेता अपना मानसिक संतुलन खो बैठे हैं. उन्होंने साधना सिंह को ‘मानसिक रूप से बीमार’करार दिया. बसपा के साथ गठबंधन करने वाले सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भाजपा विधायक की इस टिप्पणी की निंदा करते हुए कहा कि यह भाजपा के नैतिक दिवालियेपन और हताशा का प्रतीक है. बसपा प्रवक्ता सुधीन्द्र भदौरिया ने कहा कि विधायक साधना सिंह का बयान भाजपा नेताओं की मनुवादी और सामंतवादी सोच को जाहिर करता है. मायावती इन तबकों की सबसे बुलंद आवाज हैं. सपा—बसपा के गठबंधन से भाजपा के नेता बौखला गये हैं.

महिला आयोग ने भेजा है नोटिस

राजधानी दिल्ली में राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने कहा, ‘ऐसी अभद्र टिप्पणी किसी नेता को शोभा नहीं देती और निंदनीय है. राष्ट्रीय महिला आयोग ने स्वत: संज्ञान लिया है और साधना सिंह को कल नोटिस भेजा जाएगा.’ उधर, केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री रामदास अठावले ने टिप्पणी की निंदा करते हुए आज कहा कि ऐसी व्यक्तिगत आक्षेपपूर्ण बयानबाजी नहीं होनी चाहिए.