नई दिल्ली/अलीगढ़: अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी की लड़कियां भी अब खेल के मैदान में हॉकी से अपना कमाल दिखाने की तैयारी में हैं. मोहम्मद एंग्लो ओरिएण्टल कॉलेज के रूप में 1875 में स्थापित और 1920 में अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के रूप में शिक्षा का अहम स्थान बने इस शिक्षा संस्थान में ये पहला मौका है जब लड़कियां हॉकी खेलने मैदान में उतरी हैं. ग्रेजुएशन या पोस्ट ग्रेजुएशन की तो नहीं, लेकिन अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के स्कूल की लड़कियों की टीम बनाई जा रही है. आने वाले दिनों में ये लड़कियां टूर्नामेंट में भी खेलते हुए दिखाई देंगीं. Also Read - AMU: कुलपति ने 22 मार्च तक स्थगित की कक्षाएं, 31 मार्च तक नहीं होगा कोई बड़ा प्रोग्राम

हॉकी को लेकर उत्साहित हैं छात्राएं
नसीम ज़ेहरा 13 साल की हैं. कहती हैं कि वह हॉकी के लिए उत्साहित हैं. नियमित प्रैक्टिस कर रही हैं. इस खेल में उनकी रुचि है. वह चाहती हैं कि वह एक के बाद एक गोल कर जीत दर्ज करें. आलिया भी प्रैक्टिस में बिजी हैं. वह कहती हैं कि उनकी कई साथी तो हॉकी स्टिक ही लिए रहती हैं. कई बार तो क्लास में भी स्टिक लेकर पहुंच जाती हैं. Also Read - देशद्रोह के मामले में शरजील इमाम का पुलिस रिमांड बढ़ा, तीन दिन तक और होगी पूछताछ

करेंगे टीम का विस्तार, उम्मीद है मिलेगी सफलता
अंतरराष्ट्रीय हॉकी प्लेयर रहे अनीस-उर-रहमान इस टीम के कोच हैं. 80 के दशक में भारतीय टीम का हिस्सा रहे अनीस एएमयू स्पोर्ट्स कमेटी के डिप्टी डायरेक्टर हैं. वह कहते हैं कि ‘ये शुरुआत है. हॉकी में भी हम लड़कियों को आगे बढ़ाने की कोशिश कर रहे हैं, उम्मीद है इसमें सफलता मिलेगी.’ वह बताते हैं कि अभी यूनिवर्सिटी के स्कूल की लड़कियां ही खेल रही हैं. ये सब 8वीं, 9वीं व 10वीं क्लास की छात्राएँ हैं. यूनिवर्सिटी की ग्रेजुएशन या पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्सेस की लड़कियों की टीम अभी क्यों नहीं बन रही है, के सवाल पर वह कहते हैं कि एक दो लड़कियों से टीम नहीं बनती है. कम उम्र की लड़कियां जिनमें क्षमता है, को हम सिखा सकते हैं, लेकिन बड़ी लड़कियों को अचानक स्टिक देकर मैदान में उतारना थोड़ी दिक्कत भरा होगा. स्कूल लेवल से शुरू कर हम यूनिवर्सिटी में हॉकी टीम का विस्तार करेंगे ही. Also Read - असदुद्दीन ओवैसी पर गिरिराज सिंह का जुबानी हमला, बोले- बना रहे देशद्रोही सेना

छात्राएं इन दिनों प्रैक्टिस में व्यस्त हैं.

छात्राएं इन दिनों प्रैक्टिस में व्यस्त हैं.

 

अभी खेल रहीं 20 से अधिक लड़कियां
वह बताते हैं कि अभी 20 से अधिक लड़कियां खेल रही हैं. कुछ बेहतर खेलने वाली लड़कियों को शॉर्ट लिस्ट भी किया गया है. योजना फरवरी, 2019 में इंटर स्कूल कम्पटीशन कराने की है. हो सकता है ये लड़कियां यूनिवर्सिटी की ओर से अपना पहला मैच खेलें. वह कहते हैं कि ये बेहद सकरात्मक पहल है.

खेल में भी पीछे नहीं रहे हैं यूनिवर्सिटी के छात्र
बता दें कि अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी की स्थापना 1875 में हुई थी. सर सैयद अहमद ने तब इसका नाम मोहम्मद एंग्लो ओरिएण्टल कॉलेज रखा था. 1920 में इसका नाम बदल अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के रूप में स्थापित कर दिया गया. इस सेंट्रल यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट्स देश-विदेश में अहम स्थान हासिल कर चुके हैं. 2014 में पहली बार 50 लड़कियों ने अलीगढ़ में नेशनल कैडेट कोर (एनसीसी) के कैंप में हिस्सा लिया था और इस साल लड़कियों ने शूटिंग, ड्रिल और रस्साखींच में गोल्ड मेडल जीते हैं. लड़कियों ने पहली बार स्टिक थामी है, लेकिन यूनिवर्सिटी के कई छात्र खेलों में नाम रोशन कर चुके हैं. 1980 में भारतीय हॉकी टीम के कप्तान रहे ज़फर इक़बाल अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के छात्र थे.