प्रतापगढ़: उत्तर प्रदेश में कांग्रेस को एक और झटका लगा है. पूर्व सांसद और कांग्रेस नेता राजकुमारी रत्ना सिंह प्रतापगढ़ में मंगलवार को उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ की मौजूदगी में भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गईं हैं. प्रतापगढ़ विधानसभा उपचुनाव से पहले भाजपा ने रत्ना सिंह को मिलाकर कांग्रेस के खिलाफ अपनी रणनीतिक चाल चल दी है. रत्ना सिंह कांग्रेस के राज्यसभा सांसद प्रमोद तिवारी के बहुत ही करीबी मानी जाती हैं. राजकुमारी रत्ना सिंह पूर्व विदेश मंत्री स्वर्गीय राजा दिनेश सिंह की पुत्री हैं. राजा दिनेश सिंह प्रतापगढ़ से चार बार और उनकी पुत्री राजकुमारी रत्ना सिंह तीन बार 1996, 1999 और 2009 में सांसद रह चुकी हैं.


ज्ञात हो कि राजकुमारी रत्ना सिंह का परिवार शुरू से ही कांग्रेसी रहा है. इनके परिवार में रामपाल सिंह कांग्रेस के संस्थापक सदस्य थे. पिता राजा दिनेश सिंह कांग्रेस की सरकार में विदेश मंत्री रहे. वह पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी और राजीव गांधी के बहुत करीबी थे. इसके चलते नेहरू-गांधी परिवार उनको बहुत महत्व देता था. बिना सांसद रहे भी उन्हें मंत्री बनाया गया था. अचानक राजकुमारी रत्ना के कांग्रेस से नाता तोड़ने के फैसले पर प्रदेश कांग्रेस हतप्रभ है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मंगलवार को प्रतापगढ़ विधानसभा उपचुनाव में सहयोगी अपना दल के प्रत्याशी राजकुमार के समर्थन में चुनावी सभा करेंगे. इसी सभा में राजकुमारी रत्ना सिंह भी मंच पर होंगी और अपने समर्थकों के साथ भाजपा में शामिल हो जाएंगी.