लखनऊ: सियासी कयासों को विराम लगाते हुए आज प्रशासनिक सेवा से स्वैच्छिक सेवानिवृति लेने वाले गुजरात कैडर के पूर्व आईएएस अधिकारी अरविंद कुमार शर्मा भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में शामिल हो गये. उत्तर प्रदेश भाजपा अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने ट्वीट करके कहा, ‘‘आज पूर्व आईएएस अधिकारी अरविंद कुमार शर्मा जी का भाजपा परिवार में स्वागत किया. ‘सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास’ की विचारधारा से जुड़़े अरविंद कुमार शर्मा जी की कार्यक्षमता व कर्मठता से निश्चित ही पार्टी को एक नयी गति मिलेगी.’’Also Read - UP Polls 2022: BSP प्रमुख मायावती का हमला- 'आदित्यनाथ के गोरखपुर का मठ किसी आलीशान बंगले से कम नहीं'

अरविंद कुमार शर्मा ने सोमवार को अचानक अपने पद से वीआरएस ले लिया था और तभी से उनके भाजपा में शामिल होने के कायस लगने लगे थे. बता दें कि अरविंद कुमार शर्मा पीएम मोदी के खास नौकशाहों में से एक हैं. खबरों की मानें तो यह भी कहा जा रहा हैं एके शर्मा को यूपी के तीसरे उपमुख्यमंत्री की जिम्मेदारी भी दी जा सकती है. Also Read - UP Election 2022: योगी आदित्यनाथ ने गाजियाबाद में घर-घर मांगे वोट, कैराना और हज हाउस का ज़िक्र किया

Also Read - UPTET 2021: कोरोना संक्रमित अभ्यर्थी दे सकेंगे यूपीटीईटी परीक्षा, अलग से होगी व्यवस्था

मकर संक्रांति के पर्व पर लखनऊ में भाजपा के प्रदेश मुख्यालय में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह के साथ ही उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा की मौजूदगी में शर्मा ने भाजपा की सदस्यता ग्रहण की. यहां अटकलें लगायी जा रही हैं कि शर्मा को भाजपा विधान परिषद के चुनाव में अपना प्रत्याशी बना सकती है और चुनाव जीतने के बाद उन्हें सरकार में कोई महत्वपूर्ण पद भी दिया जा सकता है.

उत्तर प्रदेश की 12 विधान परिषद सीटों के लिए 28 जनवरी को मतदान होना है और नामांकन पत्र दाखिल करने की अंतिम तारीख 18 जनवरी है. भाजपा ने अभी तक अपने प्रत्याशियों की घोषणा नहीं की है. वहीं समाजवादी पार्टी (सपा) ने बुधवार को अपने दो प्रत्याशियों की घोषणा की थी. शर्मा विधान परिषद चुनाव लड़ेंगे या नहीं इस कोई भी पार्टी का नेता बोलने को तैयार नहीं है. अरविंद शर्मा मूल रूप से यूपी के काजाखुर्द मऊ से संबंध रखते हैं. अरविंद शर्मा का जन्म 11 अप्रैल 1962 को काजा खुर्द में में हुआ था.