लखनऊ: उत्‍तर प्रदेश के बागपत जेल में पूर्वांचल के कुख्‍यात डॉन मुन्‍ना बजरंगी की हत्‍या कर दी गई. सोमवार को एक मामले की सुनवाई के लिए उसे झांसी जेल से बागपत जेल में लाया गया था. जेल में हत्‍या के बाद पुलिस महकमे में हड़कंप मचा हुआ है. पुलिस इस मामले की जांच में जुटी है.Also Read - UP: RSS नेता के बेटे की सुसाइड केस में सब-इंस्‍पेक्‍टर समेत 5 पुलिसकर्मी सस्‍पेंड

Also Read - UP:प्रशासन ने नहीं लगने दी फूलन देवी की प्रतिमा, बिहार के मंत्री को वाराणसी एयरपोर्ट से ही वापस लौटाया

पूर्वांचल में अपराध की दुनिया का कुख्‍यात नाम प्रेम प्रकाश उर्फ मुन्‍ना बरजंगी का जन्‍म 1967 में यूपी के जौनपुर जिले के पूरेदयाल गांव में हुआ था. मुन्‍ना बजरंगी के पिता पारसनाथ सिंह ने उसे पढ़ाना चाहा, लेकिन उसने 5वीं के बाद पढ़ाई छोड़ दी. बताया जाता है कि 15 साल की उम्र तक पहुंचते-पहुंचते उसे कई ऐसे शौक लग गए जो उसे जुर्म की दुनिया में ले जाने के लिए काफी थे. जौनपुर के सुरेही थाना में 17 साल की उम्र में ही उसके खिलाफ मारपीट और अवैध असलहा रखने का मामला दर्ज किया गया था. इसके बाद मुन्ना बजरंगी अपराध की दुनिया में कुख्‍यात होता चला गया. Also Read - Gang-Rape in UP: मुजफ्फरनगर में छोटे भाई के सामने 15 साल की लड़की के साथ 4 दरिंदों ने किया गैंगरेप

बागपत में आज होनी थी पेशी
पूर्वांचल के कुख्‍यात डॉन मुन्‍ना बजरंगी को रविवार रात को ही झांसी जेल से बागपत जेल लाया गया था. जानकारी के मुताबिक, आज यानी सोमवार को बागपत में रेलवे से जुड़े एक मामले में सुनवाई थी.