लखनऊ: पुलिस एनकाउंटर में मारे गए गैंगस्टर विकास दुबे की पत्नी ऋचा दुबे ने एक किताब के लेखक और अपने पति के जीवन पर फिल्म बना रहे निमार्ताओं को कानूनी नोटिस भेजा है. ऋचा ने अपने पति के जीवन और बिकरू हत्याकांड पर आधारित किसी भी सामग्री पर प्रतिबंध लगाने की मांग की है जिसमें पिछले साल 3 जुलाई को विकास और उसके गुर्गो द्वारा आठ पुलिसकर्मियों की कथित तौर पर हत्या कर दी गई थी. Also Read - UP Panchayat Chunav 2021: गैंगस्‍टर विकास दुबे की पत्‍नी लड़ सकती है जिला पंचायत सदस्‍य का चुनाव

विकास मध्य प्रदेश से गिरफ्तारी के बाद 10 जुलाई को एक एनकाउंटर मुठभेड़ में मारा गया था. ऋचा ने अपने वकीलों के माध्यम से नोटिस भेजा है और कहा है कि अगर उन्हें सात दिनों के भीतर संतोषजनक जवाब नहीं मिला, तो वह हाईकोर्ट में याचिका दायर करेगी. ऋचा के वकीलों ने मामले में केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के हस्तक्षेप की भी मांग की है. Also Read - Encounter in UP: प्रयागराज में यूपी STF ने मुख्‍तार अंसारी गैंग के दो शूटरों को किया ढेर

उसके वकीलों ने कहा कि किताब और फिल्म जो बिकरू घटना पर बनाई जा रही है, ताकि उसके परिवार की छवि खराब हो. यह परिवार की छवि को खराब करने के लिए है. वकील — प्रभा शंकर मिश्रा और ऋषभ राज ने पत्रकारों को बताया कि मृदुल कपिल द्वारा ‘मैं कानपुर वाला’ किताब लिखी जा रही है और इस किताब पर आधारित एक फिल्म का निर्माण हो रहा है. Also Read - UP: Gangster Vikas Dubey की गैंग के 7 मददगार गिरफ्तार, भारी मात्रा में हथियार बरामद

वकीलों ने कहा कि फिल्म ‘हनक’ की शूटिंग विभिन्न जगहों पर की जा रही है. वकीलों ने कहा कि किताब के साथ-साथ बायोपिक भी संविधान के अनुच्छेद 21 का उल्लंघन है जो निजता के अधिकार की रक्षा करता है.

भारतीय संविधान के अनुच्छेद 21 में कहा गया है कि कानून द्वारा स्थापित प्रक्रिया के अलावा किसी भी व्यक्ति को अपने जीवन और व्यक्तिगत स्वतंत्रता के अधिकार से वंचित नहीं किया जा सकता है.

वकीलों ने कहा, “किताब लिखने या फिल्म बनाने से पहले ऋचा दुबे और परिवार के अन्य सदस्यों से कोई अनुमति नहीं मांगी गई थी. यह निजता के अधिकार का उल्लंघन है. परिवार को इस बारे में तभी पता चला जब फिल्म का ट्रेलर जारी किया गया. फिल्म को मोहन नगर द्वारा बनाया जा रहा है और मध्य प्रदेश में फिल्माया जा रहा है.”