उन्‍नाव: उत्तर प्रदेश के उन्नाव में स्थित हिंदुस्तान पेट्रोलियम के एलपीजी गैस संयंत्र में गुरुवार को आग लगने से तीन मजदूर झुलस गए हैं. आग सुबह करीब साढ़े दस बजे लगी थी, जो दो घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद बुझा ली गई. हादसे के दो घंटे के बाद आग पर काबू पाया जा सका. प्रशासनिक अधिकारियों ने आसपास की फैक्ट्रियों को बंद कराने के साथ ही एक से डेढ़ किलोमीटर के दायरे में आने वाले गांवों को खाली करा लिए थे.

सूचना मिलते ही जिलाधिकारी देवेंद्र कुमार पांडेय और एसपी एम.पी. वर्मा सहित जिले के अन्‍य प्रशासनिक अधिकारियों ने मौके पर पहुंचकर हालात का जायजा लिया. आग पर करीब दो घंटे में काबू पा लिया गया. यह संयंत्र उन्नाव कोतवाली इलाके में दही चौकी क्षेत्र में स्थित है.

प्रशासनिक अधिकारियों ने आसपास की फैक्ट्रियों को बंद कराने के साथ ही एक से डेढ़ किलोमीटर के दायरे में आने वाले गांवों को खाली करा लिया. इस बीच, लगातार लोगों को एहतियात बरतने के निर्देश दिए जाते रहे. संयंत्र की ओर जाने वाले रास्ते को सील कर वहां आने-जाने वाले लोगों को रोका जा रहा है. दमकल कर्मियों और संयंत्र के प्रशिक्षित कर्मियों की मदद से लगभग दो घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया गया है.

जिला अस्पताल के चीफ मेडिकल ऑफिसर मेवा लाल ने बताया कि एचपी गैस रीफिलिंग संयंत्र में लगी आग की चपेट में आने से झुलसे सुभाषचंद्र (52), मोहम्मद गुफरान (28) और मोहम्मद आसिफ (22) को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है. सभी घायलों का जिला अस्‍पताल में इलाज किया जा रहा है.

इस बीच, एसडीआरएफ की टीम को भी मौके पर बुला लिया गया था. जिलाधिकारी ने बताया कि आग सुबह करीब साढ़े दस बजे लगी थी, जो दो घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद बुझा ली गई. स्थिति सामान्य हो गई है. आग से झुलसे संयंत्र के तीन मजदूरों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है जहां सभी का इलाज चल रहा है.

संयंत्र से मिली जानकारी के अनुसार, टैंक का वॉल्व लीक होने के बाद आग लगी थी. आग लगने के कारण लखनऊ जाने वाली ट्रेनों को उन्नाव रेलवे स्टेशन पर और कानपुर जाने वाली गाड़ियों को सोनिक और अजगैन स्टेशन पर रोका गया, लेकिन अब आग पर काबू पा लिए जाने के बाद यातयात को खोल दिया गया है.