नोएडा: IT कंपनी जेनपैक्ट में कार्यरत एक वरिष्ठ अधिकारी ने अपने आवास पर सोमवार देर रात फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली, आरम्भिक जांच में पता चला है कि ये अधिकारी यौन उत्पीड़न के आरोपों की जांच का सामना कर रहा था जिसके चलते कंपनी ने उसे सस्पेंड कर दिया था. पुलिस को मौके  से एक सुसाइड नोट भी बरामद हुआ है जिसमें उसने खुद पर लगे आरोपों को बेबुनियाद बताया है.

बर्दाश्त करना बहुत मुश्किल
अपने सुसाइड नोट में 35 वर्षीय स्वरूप राज ने लिखा है कि मैं अपनी पत्नी कृति को बहुत ज्यादा प्यार करता हूं, मुझ पर जो भी गंदे आरोप लगे हैं, वो सब गलत और बेबुनियाद हैं, उनमें कोई भी सच्चाई नहीं है, उन्हें ऑफिस की ही लड़कियों ने झूठा फंसाया है, यदि जांच में उनको निर्दोष भी घोषित कर दिया गया फिर भी आरोप लगने की वजह से लोग उनको शक की निगाह से देखेंगे, इस तरह वो कैसे दोबारा कंपनी जाएंगे, मेरी वजह से मेरी बीवी को जिल्लत सहनी पड़ेगी और ये सब मेरे लिए बर्दाश्त करना बहुत ज्यादा मुश्किल होगा इसलिए मैं ये कदम उठा रहा हूं.

सीएम योगी से मिले बुलंदशहर हिंसा में मारे गए सुमित के परिजन, शहीद का दर्जा देने, प्रतिमा लगवाने की मांग

लोग शक की नजरों से देखेंगे
स्वरूज राज, नोएडा सेक्टर-137 में एक हाइराइज अपार्टमेंट में अपनी पत्नी कृति के साथ रहते थे, दो साल पूर्व ही दोनों ने लव मैरिज की थी. उनकी पत्नी भी जेनपैक्ट कंपनी में काम करती हैं. मृतक स्वरुप राज को कंपनी मैनेजमेंट ने जांच पूरी होने तक के लिए निलंबित कर दिया था. हिन्दुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक सोमवार रात जब उनकी पत्नी घर पहुंची तो उन्होंने देखा कि स्वरूप का शव पंखे से लटका हुआ है, पत्नी ने मामले की सूचना पुलिस को दी, पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है. सूरजपुर पुलिस स्टेशन पर तैनात एसएचओ मुनीश चौहान के मुताबिक उनके सुसाइड नोट में उन्होंने खुद पर लगे सभी आरोपों से इंकार किया है साथ ही ये भी लिखा कि जांच के बाद भले ही वह निर्दोष साबित होगा तब भी उसकी प्रतिष्ठा पा आंच आएगी लोग उसे शक की नजरों से देखेंगे.

22 का बॉयफ्रेंड, 19 की गर्लफ्रेंड, 18 महीने खुलकर चला इश्क, ऐसे हुआ छोटी सी LOVE STORY और दो जिंदगियों का अंत

मृतक की लिंक्डइन प्रोफाइल के मुताबिक,  उसने 2007 में जेनपैक्ट कंपनी प्रोग्राम डेवलपर के रूप में ज्वाइन की थी और हाल ही में वो अस्सिटेंट वाइस प्रेसिडेंट के पद पर प्रमोट हुए थे. जेनपैक्ट के एक प्रवक्ता ने भी इस बात की पुष्टि की कि वो निलंबित चल रहे थे. कंपनी प्रवक्ता ने उनकी मौत पर दुःख जताया है और कहा है दुःख की इस घड़ी में कंपनी दिवंगत कर्मचारी के परिवार के साथ है हमें अपने एक कर्मचारी के असामयिक निधन अफसोस है. पुलिस का कहना है कि उन्हें अभी तक मृतक के परिवार की ओर से कोई भी शिकायत नहीं मिली है. पुलिस अपने स्तर पर कार्रवाई कर रही है. ( इनपुट एजेंसी )