गाजियाबाद/मेरठ (उप्र): कांवड़ यात्रा की वजह से गाजियाबाद और मेरठ जिले के सभी स्कूल और कॉलेजों में 26 से 30 जुलाई तक अवकाश घोषित किया गया है. अधिकारियों ने गुरुवार को यह जानकारी दी. गाजियाबाद के जिलाधिकारी अजय शंकर पांडे द्वारा जारी आदेश में कहा गया है कि श्रावण शिवरात्रि 30 जुलाई को होगी. लिखित आदेश में कहा गया है कि पिछले वर्ष की तरह इस बार भी श्रद्धालुओं और कांवड़ियों के भारी संख्या में आने का अनुमान है. इसलिए सभी प्राथमिक और माध्यमिक स्कूल, इनमें सीबीएसई और आईसीएसई बोर्ड से संबद्ध स्कूल भी शामिल हैं, महाविद्यालय, इंजीनियरिंग, प्रबंधन और मेडिकल कॉलेज 26 से 30 जुलाई तक बंद रहेंगे.

 

गाजियाबाद के पड़ोसी मेरठ जिले के भी स्कूल और महाविद्यालय 30 जुलाई तक बंद रहेंगे. क्षेत्रीय उच्च शिक्षा अधिकारी डॉ.राजीव कुमार गुप्ता ने बताया कि 26 जुलाई से 29 जुलाई तक मेरठ जिले के सभी शासकीय व अशासकीय सहायता प्राप्त महाविद्यालय एवं विश्वविद्यालय से सम्बद्ध समस्त उच्च संस्थानों में अवकाश घोषित किया गया है. उन्होंने बताया कि 30 जुलाई को महाशिवरात्रि पर्व का अवकाश होने के कारण 31 जुलाई को महाविद्यालय खुलेंगे. गुप्ता के अनुसार यदि किसी महाविद्यालय में परीक्षा अथवा प्रवेश कार्य सम्पादित हो रहे हैं तब ऐसे विद्यालय इस आदेश से बाधित नही होंगे.

मेरठ में कांवड़ियों की भारी भीड़ को देखते हुए फैसला
जिला प्रवक्ता के अनुसार मेरठ के जिला प्रशासन द्वारा 30 जुलाई तक इंटर तक के स्कूल बंद रखने के आदेश पहले ही दिए जा चुके हैं. प्रवक्ता के अनुसार मेरठ में कांवड़ियों की भारी भीड़ को देखते हुए यह फैसला लिया गया है. इस दौरान गंगा जल लेने के लिए कांवड़िए उत्तराखंड के हरिद्वार जाते हैं. बच्चों की सुरक्षा और कानून-व्यवस्था को बनाए रखने के लिए यह फैसला लिया गया है. वार्षिक कांवड़ यात्रा के मद्देनजर पश्चिमी उत्तर प्रदेश के जिलों जैसे गौतमबुद्धनगर, गाजियाबाद, बुलंदशहर और मेरठ में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी की गई है.