शामली: तेज से बदलते समाज में अब भी लोग खुद को बदलने के लिए तैयार नहीं हैं, एक बार फिर एक लड़की को किसी मुहब्‍बत करने की कीमत अपनी जान देकर चुकानी पड़ी. जब किसी लड़की को किसी से प्‍यार हो जाए तो फिर उसे कैसे किसी दूसरे के साथ जिंदगी जीने के लिए मजबूर किया जा सकता है. एक बार फिर एक परिवार ने मुहब्‍बत को परिवार के नाम पर धब्बा समझकर उसका गला घोंट दिया. ये प्रेम की दास्‍तां कुछ ऐसी है कि 20 साल की गुलशफा को एक लड़के से प्‍यार हो गया, लेकिन परिवार वाले उसकी इस चाहत के खिलाफ थे.

काफी दबाव के बावजूद गुलशफा प्‍यार की राह से अपने कदम पीछे खींचने को तैयार नहीं थी, लेकिन परिवार अपनी इज्‍जत की दुहाई देकर उसे हार हाल में किसी और के साथ रिश्‍ते में बांधना चाहते थे. न तो गुलशफा एक भी कदम पीछे हटने को तैयार थी और ना ही परिवार वाले… आखिरकार परिवार वालों ने गुलशफा की जिंदगी का फैसला कर लिया. उन्‍होंने उसकी शादी किसी और जगह तय कर दी थी, लेकिन गुलशफा थी कि अपने प्रेमी को छोड़ने के लिए किसी भी सूरत में तैयार नहीं थी.

जब परिवार वालों को लगा कि गुलशफा हमारी बात मानने को तैयार नहीं है. अपने शादी तय हो जाने के बाद भी प्रेमी से रिश्‍ता रखे हुए है तो जिस बाप ने उसे प्‍यार से पाला था, उसी ने उसकी जिंदगी खत्‍म करने का प्‍लान बना लिया. इसमें पिता, भाई और गुलशफा का जीजा शामिल हुए और इज्‍जत के नाम पर वह किया, जो अक्‍सर प्‍यार करने वाली लड़कियां अभी भी भुगतती चली जा रही हैं.

शामली जिले के थानाभवन के जलालाबाद इलाके में एक 20 साल की एक लड़की का शव मिला तो उसकी पहचान गुलशफा के रूप में हुई. पुलिस ने जब इस मामले में जांच शुरू की तो उसके परिवार ने गुमराह करने के लिए इसे आत्महत्या तक बता डाला, लेकिन गुनाह कहां छिपता है और उन्‍होंने युवती की ला दबाकर हत्या करने का अपराध स्वीकार किया है. इतना ही नहीं हत्‍या के जुर्म को भी जायज बताते हुए गुलशफा को दोषी बताते हुए कहा कि उसे परिवार के नाम पर धब्बा लगाया था.

पुलिस ने बताया थानाभवन कस्बे में एक महिला की हत्या के आरोप में पिता और भाई सहित परिवार के तीन सदस्यों को गिरफ्तार किया गया है. पुलिस ने गुरुवार को बताया कि महिला का शव पिछले हफ्ते यहां जंगल में पाया गया था. पुलिस क्षेत्राधिकारी (सीओ) प्रदीप कुमार ने बताया कि 20 वर्षीय गुलशफा की हत्या करने के आरोप में नियामत अली, उसके बेटे नजाकत और उनके दामाद शराफत को गिरफ्तार किया गया। आरोप है कि गुलशफा ने अपने परिवार की इच्छा के खिलाफ एक लड़के से प्यार किया था. सीओ ने कहा कि आरोपियों ने महिला की गला दबाकर हत्या करने का अपराध स्वीकार किया है क्योंकि उसने ”परिवार के नाम पर धब्बा” लगाया था.

सीओ ने कहा कि परिवार ने गुलशफा का विवाह किसी अन्य व्यक्ति से तय किया था, फिर भी उसका अपने प्रेमी के साथ संबंध था. पुलिस के मुताबिक थानाभवन के जलालाबाद इलाके के जंगल में उसका शव पाया गया और उसके गर्दन में दुपट्टा लिपटा हुआ था. उसके परिवार ने पुलिस को गुमराह करने के लिए इसे आत्महत्या बताया.