मथुरा: उत्तर प्रदेश के मथुरा जनपद में घोड़े, खच्चरों और गधों में जानलेवा बीमारी ‘ग्लैण्डर्स’ के लक्षण पाए गए हैं. इन लक्षणों के मिलने के बाद फौरन हरकत में आया वेटनरी विभाग. चूंकि इस जानलेवा बीमारी का संक्रमण बहुत तेजी से फैलता है और जानवरों के साथ-साथ मनुष्य भी इसकी चपेट में आ जाते हैं. इसलिए इस बीमारी की चपेट में आए पांच पशुओं को मार कर दफनाया जा चुका है तथा अन्य अश्ववंशी पशुओं के रक्त के नमूने लेकर परीक्षण के लिए हिसार स्थित राष्ट्रीय अश्व अनुसंधान केंद्र भेजे जा रहे हैं. इन पशुओं को मारे जाने के एवज में सरकार पशु मालिकों को 25 हजार रूपये का मुआवजा भी दे रही है. पशुओं में इस बीमारी के लक्षण पाए जाने के बाद स्वास्थ्य महकमें की नींद उड़ गई है. Also Read - मथुरा में टूटी हजारों वर्षों की परंपरा, कोरोना वायरस के कारण इस साल नहीं लगेगा गोवर्धन में लगने वाला किरोड़ी मेला

Also Read - रेप से प्रेग्‍नेंट, मेडिकल करवाकर लौट रही पीड़िता और भाई का आरोपी पक्ष ने किया अपहरण

मथुरा में दिल्ली-आगरा हाईवे पर लगा ATM उखाड़ ले गए चोर, CCTV कैमरों पर चिपकाया टेप Also Read - यूपी: पूर्व सैनिक पिता से हथियार छीनकर 17 साल की घायल बेटी ने ही गोली मारी, अंजाम मौत

बचाव का और कोई उपाय नहीं

जिले के मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी डॉ. भूदेव सिंह ने बताया कि जनपद में गधे, घोड़ों और खच्चरों को ‘ग्लैण्डर्स’ बीमारी हो रही है जिसके चलते पांच जानवरों को मारना पड़ा है. उन्हें गहरे गड्ढे खोदकर दफना दिया गया क्योंकि इस बीमारी को फैलने से रोकने का एक यही कारगर उपाय है. उन्होंने बताया कि अब अभियान चलाकर अश्ववंशी पशुओं का रक्त परीक्षण कराया जा रहा है जिससे कि ‘ग्लैण्डर्स’ से संक्रमित पशु की पहचान कर अन्य पशुओं व लोगों को बचाया जा सके. इसके लिए पशु चिकित्सक घोडे़, गधे और खच्चरों के रक्त नमूने ले रहे हैं तथा पशुपालकों को इस बीमारी के लक्षणों और बचाव के उपायों की भी जानकारी दे रहे हैं.’

बुलंदशहर हिंसा: योगी सरकार ने SSP बुलंदशहर को हटाया, दो पुलिस अधिकारियों के भी तबादले

मिल रहा सरकारी मुआवजा

डॉ. भूदेव सिंह ने कहा कि सरकार ‘ग्लैण्डर्स’ की चपेट में आए पशुओं को मारने से पहले उनके मालिकों को प्रति पशु 25 हजार रुपये का मुआवजा दे रही है जिससे कि पशुपालक की क्षतिपूर्ति हो सके और वह स्वेच्छा से इस कार्य में सहयोग कर सके. उन्होंने बताया कि यह बीमारी पशुओं से इंसानों में भी फैलने की आशंका रहती है. इसलिए इसके मामले में सतर्कता बरतने की जरूरत होती है. इस बीमारी से संक्रमित होने पर किसी भी व्यक्ति को केवल प्रथम अवस्था में ही उपचार देकर बचाया जा सकता है. इसके बाद इस बीमारी का कोई इलाज फिलहाल संभव नहीं है. (इनपुट एजेंसी)

रेलवे टिकटों की कालाबाजारी करने वाला एक और गिरफ्तार, IRCTC पर बनाई थी दो दर्जन फर्जी आईडी