मेरठ: सुधीर मक्कड़, जिन्हें अब ‘गोल्डन बाबा’ के नाम से जाना जाता है, वह यहां चल रही कांवड़ यात्रा में आकर्षण का केंद्र बने हुए हैं. वह पिछले 26 सालों से कांवड़ यात्रा कर रहे हैं और अपने शरीर पर कई किलो सोने के आभूषण पहने रहते हैं. इस बार उन्होंने जो आभूषण पहने हैं उनका वजन 16 किलोग्राम से भी अधिक है.Also Read - मूसलाधार बारिश से रौद्र रूप में आई गंगा, हरिद्वार में खतरे का निशान पार, तो ऋषिकेश में भी आया सैलाब

Also Read - गुजरात के इस शहर में सावन के सोमवार और जन्माष्टमी के दौरान चिकन, मटन और मछली की बिक्री पर रोक

Sawan 2019: इन 5 चीजों से कभी ना करें शिव पूजा, हो जाता है विनाश… Also Read - उत्तर प्रदेश के संभल में कांवड़ियों पर थूकने से हुआ बवाल, गुस्साए शिवभक्तों ने सड़क रोकी; बीच बचाव में आया प्रशासन

उन्होंने कहा कि मैं पिछले 26 सालों से कांवड़ यात्रा में भाग ले रहा हूं और पिछले साल तक मैं 26 किलो सोना पहनता था, लेकिन खराब स्वास्थ्य के चलते मैंने इसे अब कम कर दिया है. गोल्डन बाबा ने आगे कहा कि शुरुआती दिनों में मैं 2-3 ग्राम के सोने के गहने पहनता था, लेकिन आज मैं कई किलो सोने के आभूषण पहनता हूं. इन गहनों के लिए मैंने कभी भी किसी से कोई योगदान या ऋण नहीं मांगा और इन्हें खरीदने के लिए मैंने अपने पैसे खर्च किए हैं.

Sawan Shivratri 2019: सावन शिवरात्रि तिथि, महत्‍व, पूजन विधि, जानें शुभ मुहूर्त…

गोल्डन बाबा के समूह है 250-300 लोग

इन गहनों में कई चेन, देवी-देवताओं के लॉकेट, अंगूठी और ब्रेसलेट शामिल हैं. गोल्डन बाबा का अपना एक समूह है जिसमें 250-300 लोग शामिल हैं और उनकी कांवड़ यात्रा के दौरान भोजन, पानी और एम्बुलेंस जैसी बुनियादी सुविधाएं हमेशा उपलब्ध रहती हैं.