लखनऊ/गोंडा: उत्तर प्रदेश के गोंडा जिले में तैनात उप मुख्य चिकित्सा अधिकारी (डिप्टी सीएमओ) डा. गयासुल हसन ने कथित रूप से काम के बोझ से अवसाद में आकर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. सोमवार की सुबह पुलिस को उनका शव आवासीय लॉन में लगे एक अमरूद के पेड़ से लटका मिला.

गोंडा के एसपी लल्लन सिंह ने बताया कि थाना कोतवाली नगर क्षेत्र स्थित आवास विकास कालोनी में अपने परिवार के साथ रहने वाले, जिले के उप मुख्य चिकित्सा अधिकारी पद पर कार्यरत डॉ गयासुल हसन का शव आज सुबह उनके आवास परिसर में ही लगे अमरूद के पेड़ से लटकता पाया गया. उन्होंने भोर में जब खुदकुशी की, तब परिवार के अन्य सदस्य सो रहे थे. परिवार के अन्य सदस्यों के जागने पर उन्हें इसकी जानकारी हुई. सूचना पाकर पुलिस समेत स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी और कर्मचारी मौके पर पहुंच गए. शव का पंचनामा करवाकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है.

दिवाली पर BJP पार्षद ने रिवॉल्‍वर से की फायरिंग, वीडियो फेसबुक पर डाला, अब हुई आफत

सीएमओ का प्रभार संभाल रहे थे डॉ हसन
पुलिस अधीक्षक सिंह ने कहा कि परिजनों ने पूछताछ में कथित रूप से काम के बोझ से अवसाद ग्रस्त होना बताया है. उन्होंने बताया कि डिप्टी सीएमओ ने इससे पहले भी एक बार खुदकुशी की कोशिश की थी, तब वह बच गए थे. अभी तक कोई सुसाइड नोट भी नहीं मिला है. बताया जाता है कि मुख्य चिकित्सा अधिकारी पिछले काफी दिनों से अवकाश पर हैं. वर्तमान में सीएमओ का प्रभार डॉ हसन सम्भाल रहे थे. उनके परिवार में उनकी पत्नी और दो बच्चे हैं. पुलिस आत्महत्या के कारणों का पता लगाने में जुटी है.  (इनपुट एजेंसी)