लखनऊ: यूपी में चल रही परिषदीय स्‍कूलों की 12460 सहायक शिक्षक भर्ती को लेकर शिक्षामित्रों के लिए खुशखबरी है. इलाहाबाद हाईकोर्ट ने शिक्षक भर्ती प्रक्रिया में उन शिक्षामित्रों को भी शामिल करने का आदेश दिया है जिन्हें पूर्व में काउंसिलिंग का अवसर दिया गया था. बता दें कि इससे पहले इन शिक्षामित्रों को जिला बेसिक शिक्षाधिकारी ने इस आधार पर काउंसिलिंग में शामिल करने से इन्कार कर दिया था कि पूर्व की काउंसिलिंग में उनको शामिल नहीं किया गया था, इसलिए इस बार चयन सूची में नहीं रखा जाएगा.

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने बेसिक शिक्षा अधिकारियों को इस भर्ती में याचियों को रिक्‍त पदों पर उनकी मेरिट के मुताबिक अवसर देने के निर्देश दिए हैं. याची के अधिवक्ता का कहना था कि 12460 सहायक अध्यापक भर्ती के लिए याचीगण ने आवेदन किया था. उस समय उनका सहायक अध्यापक के पद पर समायोजन हो गया. चूंकि याची उस समय मौलिक पद पर समायोजित हो चुके थे, इसलिए उन्हें काउंसिलिंग में शामिल नहीं किया गया. अब याचीगणों का समायोजन रद हो चुका है. सुप्रीम कोर्ट ने भी शिक्षामित्रों को वेटेज देने के लिए कहा है. राजू प्रसाद पटेल व अन्य की याचिका पर न्यायमूर्ति अश्वनी कुमार मिश्र ने याचीगण को काउंसिलिंग में शामिल करने का निर्देश दिया है. कोर्ट ने कहा है कि पद रिक्त रहने की स्थिति में इन्हें भर्ती प्रक्रिया में शामिल करने के लिए छह हफ्ते में कार्यवाही की जाए.

पीसीएस-प्री की परीक्षा टली, एलटी ग्रेड की परीक्षा 6 मई के बजाए अब 24 जून को होगी