लखनऊ : उत्तर प्रदेश में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए वर्तमान योगी सरकार अयोध्या, मथुरा, चित्रकूट समेत प्रदेश के विभिन्न धार्मिक स्थलों के विकास में जुटी है. इसी क्रम में प्रसिद्ध धार्मिक स्थल गढ़मुक्तेश्वर को मेला क्षेत्र के रूप में विकसित करने की योजना है. मुख्य सचिव राजीव कुमार ने कहा कि प्रदेश में पर्यटन को बढ़ावा देने और पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए कई कार्य योजनाओं का संचालन प्रदेश सरकार के माध्यम से कराया जा रहा है. Also Read - चीनी कंपनी हुवावे को टक्कर देगा रिलायंस जियो, अमेरिका में हुई 5जी तकनीक की सफल टेस्टिंग

ग्रीन बेल्ट घोषित होगा गढ़मुक्तेश्वर
मुख्य सचिव ने कहा कि योजनाओं में और अधिक गति लाकर प्रदेश में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए पर्यटन क्षेत्रों को विकसित कराकर पर्यटन यात्रियों को बेहतर सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएगी जिससे  अधिक से अधिक पर्यटक प्रदेश के प्रमुख स्थलों की ओर अधिक आकर्षित हो सकें. प्रदेश के मुख्य सचिव राजीव कुमार ने अधिकारियों को गढ़मुक्तेश्वर के प्रमुख पर्यटन स्थलों का विकास करने के लिए व्यापक कार्य योजना जल्द से जल्द बनाकर पेश करने के निर्देश दिए हैं. उन्होंने कहा कि पर्यटन एवं धार्मिक दृष्टिकोण से गढ़मुक्तेश्वर का विकास कराने के लिए मेला क्षेत्र को विकसित किया जाएगा. मुख्य सचिव ने कहा कि मेला क्षेत्र को विकसित करने के लिए संबंधित क्षेत्र को ग्रीन बेल्ट घोषित कराने के साथ-साथ विकासशील कार्य योजना बनाई जाए. Also Read - दिल्ली: कपिल मिश्रा के खिलाफ वारंट जारी, केजरीवाल सरकार के मंत्री ने दर्ज कराया था केस

गंगा नदी पर बनेंगे स्थाई घाट
मुख्य सचिव ने शास्त्री भवन स्थित गढ़मुक्तेश्वर के प्रमुख पर्यटन स्थलों के विकास के लिए बैठक कर वरिष्ठ अधिकारियों को निर्देश दिए. उन्होंने कहा कि मेला क्षेत्र में पर्याप्त पार्किंग की व्यवस्था सुनिश्चित कराई जाए. गंगा नदी के घाटों की मरम्मत कराकर स्थायी घाट बनवाए जाएं. गंगा नदी पर आने वाले तीर्थयात्रियों के लिए पूजा स्थल विकसित कराया जाए. राजीव कुमार ने कहा कि प्रदेश में पर्यटन को बढ़ावा देने और पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए कई कार्य योजनाओं का संचालन प्रदेश सरकार द्वारा क्रियान्वयन कराया जा रहा है. उन्होंने कहा कि योजनाओं में और अधिक गति लाकर प्रदेश में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए पर्यटन क्षेत्रों को विकसित कराकर पर्यटन यात्रियों को बेहतर सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएं, ताकि अधिक से अधिक पर्यटक प्रदेश के प्रमुख स्थलों की ओर अधिक आकर्षित हो सकें. बैठक में प्रमुख सचिव (सूचना एवं पर्यटन) अवनीश कुमार अवस्थी, हापुड़ के जिलाधिकारी सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी व क्षेत्रीय प्रतिनिधि उपस्थित थे.
(इनपुट एजेंसी ) Also Read - असम-मिजोरम सीमा विवाद सुलझा, वाहनों का आवागमन शुरू