गोरखपुर: उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में मानव तस्करी विरोधी इकाई (एएचटीयू) ने उन्नीस नाबालिगों को तस्करों से बचाया है. साथ ही 9 मानव तस्करों को गिरफ्तार किया है. एएचटीयू इंस्पेक्टर अजीत प्रताप सिंह के अनुसार, “बचपन बचाओ आंदोलन के उप्र के राज्य समन्वयक सूर्य प्रताप मिश्रा की टिप से पता चला कि बच्चों को एक बस में बिहार के अररिया से दिल्ली ले जाया जा रहा है. तब हमने सोमवार को यह ऑपरेशन शुरू किया. पुलिस ने खोराबार पुलिस स्टेशन की सीमा के तहत जगदीशपुर क्षेत्र को घेर लिया. बिहार से आने वाली बसों की जांच के दौरान पुलिस ने नौ मानव तस्करों को पकड़ा और 19 बच्चों को बचाया. इन बच्चों को चाइल्ड लाइन को सौंप दिया गया है.” Also Read - Corona Vaccine की बड़ी खबर: यूपी के इन दो शहरों में जल्द शुरू होगा ‘Covaxin’ का थर्ड फेज ट्रायल

सभी नौ आरोपियों के खिलाफ धारा 370 के तहत मामला दर्ज कर जेल भेज दिया गया है. एसपी क्राइम अशोक कुमार वर्मा ने कहा, “मानव तस्करी एक संगठित अपराध है और यह जांच का विषय है कि उनका नेटवर्क कितना बड़ा है. अभी 9 तस्करों को गिरफ्तार किया गया है और उनसे छुड़ाए गए 19 बच्चों की काउंसलिंग की जा रही है.” Also Read - Coronavirus: कोविड-19 से लड़ने के उपायों के लिए पीएम मोदी ने सीएम योगी की सराहना में कही ये बात

पकड़े गए तस्करों में मोहम्मद हाशिम, मोहम्मद जाहिद, इश्तियाक, श्मशाद, मुर्शिद, मारूफ, नूर हसन, शाहिद और हसीब हैं. ये सभी बिहार के अररिया के हैं. बता दें कि बीते कल गोरखपुर में ही एक नाबालिग बच्ची संग दुष्कर्म करने और उसे सिगरेट से जलाने का मामला सामने आया था. इस मामले पर अभी जांच चल रही है. Also Read - हस्तिनापुर के पास क्यों बनने जा रही फिल्म सिटी, सीएम योगी ने बताई ये वजह