नई दिल्ली: केंद्रीय सड़क परिवहन एवं नौवहन मंत्री नितिन गडकरी ने बुधवार को कहा कि केंद्र अगले साल कुंभ मेले के लिए वाराणसी से प्रयागराज तक के लिए एयरबोट सेवा शुरू करने की योजना बना रहा है.एक कार्यक्रम के मौके पर उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि एक रूसी कंपनी के यह सेवा शुरू करने की संभावना है. एयरबोट में एक बार में 16 लोग सवार हो सकते हैं. उसमें इंजन लगा होगा. उन्होंने बताया कि एयरबोट 80 किलोमीटर प्रति घंटे तक की रफ्तार से तैर सकती है. उसे केवल दस सेंटीमीटर गहराई की जरूरत होगी.

गडकरी ने कहा, ‘हम 26 जनवरी से यह सेवा शुरू करने की योजना बना रहे हैं. प्रयागराज से हल्दिया तक 1680 किलोमीटर लंबा जलमार्ग है. कुंभ मेला 15 जनवरी, 2019 को प्रयागराज में शुरू होगा. पिछले महीने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संसदीय निर्वाचन क्षेत्र वाराणसी में देश के पहले मल्टी-मॉडल टर्मिनल के फायदे गिनाते हुए कहा कि ‘एक जमाना था, जब हमारे देश की नदियों मे बड़े-बड़े जहाज चला करते थे, लेकिन आजादी के बाद इस पर ध्यान देने के बजाय उनकी उपेक्षा की गई. हमारी नदियों की शक्ति के साथ पहले की सरकारों ने कितना बड़ा अन्याय किया. इस अन्याय को समाप्त करने का कार्य हमारी सरकार कर रही है.’

पीएम ने बताया था कि केन्द्र सरकार देश में 100 से ज्यादा राष्ट्रीय जलमार्गों पर काम कर रही है. वाराणसी-हल्दिया भी उनमें से एक है. इस वॉटरवे से उत्तर प्रदेश ही नहीं बिहार, झारखण्ड और पश्चिम बंगाल यानी एक प्रकार से पूर्वी भारत के एक बड़े हिस्से को बहुत बड़ा फायदा होने वाला है.

केंद्रीय भूतल परिवहन एवं जहाजरानी मंत्री नितिन गडकरी ने इस मौके पर कहा था कि गंगा नदी में परिवहन की शुरुआत हो गई. स्वाधीनता के बाद पहली बार हल्दिया से 16 कंटेनर जहाज के जरिये यहां पहुंचे हैं. इस साल हम 80 लाख टन सामान ट्रांसपोर्ट करेंगे. दो साल बाद 270 लाख टन सामान का परिवहन गंगा से होगा. उन्होंने कहा कि अगले साल इलाहाबाद में होने वाले कुम्भ में हम सवा घंटे में वाराणसी से इलाहाबाद तक जनता को पहुंचाने की बात कही थी. मंत्री ने कहा था कि मौसम में गंगोत्री से लेकर गंगासागर तक कम से कम दो फुट पानी गंगा में रहेगा.