ग्रेटर नोएडा: उत्तर प्रदेश के ग्रेटर नोएडा के एक गांव कचैड़ा वसाराबाद में किसानों ने बीजेपी नेताओं के गांव में आने पर रोक लगा दी है. किसानों ने गांव के बाहर एक बैनर लगाया हैं, जिस पर लिखा है कि ‘बीजेपी वालों का आना इस गांव में सख्त मना है. बैनर पर ये भी लिखा है कि इस गांव को सांसद महेश शर्मा द्वारा गोद लिया गया है.’ बता दें कि सांसद महेश शर्मा केंद्र सरकार में केंद्रीय मंत्री भी हैं. किसी गांव में बैनर लगाने का ये पहला मामला नहीं है, इससे पहले भी कई गांवों में इस तरह के बैनर बोर्ड लगाए जा चुके हैं. Also Read - भाजपा शासित राज्यों ने कोविड-19 के की लड़ाई में आत्मसमर्पण कर दिया है : कांग्रेस

Also Read - सत्ता के लालची लोग महाराष्ट्र सरकार को अस्थिर करने की लगातार कोशिश कर रहे हैं : कांग्रेस

यूपी: इलाहाबाद में घरों के बाहर लगे बीजेपी नेताओं और कार्यकर्ताओं की ‘नो एंट्री’ के पोस्टर्स, लिखा- यहां महिलाएं और बच्चियां रहती हैं Also Read - मोदी सरकार 2.0 की पहली वर्षगांठ, 6 साल पूरे होने पर भाजपा करेगी 'आभासी रैलियों' का आगाज, गिनाएगी उपलब्धियां

इस बात से नाराज हैं गांव के किसान

गांव के लोग भारतीय जनता पार्टी के नेताओं से नाराज हैं. बताया जा रहा है कि कुछ दिन पहले गांव के किसानों की फसलों को मशीनों द्वारा कुचल कर बर्बाद कर दिया गया. गांव के लोगों का कहना है कि कुछ दिन पहले 25-30 मशीनों से इन लोगों ने हमारी फसलों को कुचल कर बर्बाद कर दिया. हमने फसल छह महीने पहले बोई थी. गांव को 100 से अधिक पुलिस वालों ने घेर लिया, इससे कोई कुछ नहीं कर सका. विरोध करने पर लाठी चार्ज किया गया. लाखों रुपए की फसल बर्बाद होने पर किसान गुस्सा गए.

FB पर पोस्ट की अखबार की कटिंग, दलित शिक्षक को BJP नेता के पैर छूकर मांगनी पड़ी माफी

‘फसल कुचली गई, बीजेपी नेताओं ने मदद नहीं की’

गांव के लोगों के अनुसार, एक ग्रुप ने जमीनें खरीदी थीं. करीब 12 साल पहले बात है. तब से अब तक ग्रुप ने कुछ नहीं किया. हम फसल करते रहे. अब बिना नोटिस और बिना जानकारी दिए ही मशीनों से फसल कुचल दी. गांव के लोगों के अनुसार ये गांव सांसद महेश शर्मा ने गोद लिया. इसलिए उन्होंने उनसे संपर्क करने की कोशिश की. अन्य बीजेपी नेताओं से भी संपर्क करने की कोशिश की, लेकिन किसी से संपर्क नहीं हो पाया, इसके बाद गुस्से में गांव के लोगों ने ये बोर्ड लगा दिया.