Hathras Case Update: उत्तर प्रदेश के हाथरस जिले में 19 साल की एक दलित लड़की की कथित रूप से गैंगरेप के बाद हुई मौत के मामले में पीड़ित परिवार सोमवार को कड़ी सुरक्षा के बीच इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ पीठ के समक्ष हाजिर होगा. अदालत पीड़ित परिवार का बयान दर्ज करेगी. न्यायालय ने गत 1 अक्टूबर को घटना के बारे में बयान देने के लिए मृत युवती के परिजन को बुलाया था. इसके लिए सोमवार तड़के भारी पुलिस सुरक्षा के बीच पीड़ित परिवार हाथरस से लखनऊ के लिए रवाना हुआ. एसडीएम अंजली गंगवार सीओ शैलेंद्र बाजपेयी भी पीड़ित परिवार के साथ लखनऊ रवाना हुई है. जनपद के डीएम प्रवीन लक्ष्यकार व एसपी भी साथ में मौजूद हैं. Also Read - इलाहाबाद हाईकोर्ट का आदेश- केवल शादी के लिए धर्म परिवर्तन मान्य नहीं

मामला न्यायमूर्ति पंकज मित्तल और न्यायमूर्ति राजन राय की पीठ के समक्ष दोपहर 2 बजे के बाद सुनवाई के लिए सूचीबद्ध किया गया है. हाईकोर्ट ने हाथरस जिला प्रशासन को आदेश दिया था कि वह सोमवार को लड़की के परिजनों की पेशी सुनिश्चित कराए. न्यायालय ने मामले की जांच की स्थिति रिपोर्ट पेश करने के लिए गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव, पुलिस महानिदेशक, अपर पुलिस महानिदेशक (कानून व्यवस्था) और हाथरस के जिला अधिकारी तथा पुलिस अधीक्षक को भी तलब किया है.

राज्य सरकार ने अपर महाधिवक्ता वीके साही से कहा है कि वह उसका प्रतिनिधित्व करने के लिए अदालत में मौजूद रहें. हाथरस के पुलिस अधीक्षक विनीत जायसवाल ने रविवार को बताया ‘हाथरस के पीड़ित परिवार की अदालत में हाजिरी के लिए नोडल अफसर नियुक्त किए गए जिला जज उच्च न्यायालय के संपर्क में हैं. जिस समय के लिए मामला सूचीबद्ध है उसी हिसाब से हाथरस से परिवार की रवानगी की जाएगी. परिवार इस वक्त हाथरस में ही मौजूद है.’ हालांकि जायसवाल ने परिवार की सुरक्षा के बारे में विवरण देने से मना कर दिया.

इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ पीठ ने हाथरस कांड का स्वत: संज्ञान लेते हुए इस मामले में आला अधिकारियों को गत 1 अक्टूबर को तलब किया था. न्यायमूर्ति राजन रॉय और न्यायमूर्ति जसप्रीत सिंह ने प्रदेश के गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव, पुलिस महानिदेशक और अपर पुलिस महानिदेशक को घटना के बारे में स्पष्टीकरण देने के लिए 12 अक्टूबर को अदालत में तलब किया था.

गौरतलब है कि गत 14 सितंबर को हाथरस जिले के चंदपा थाना क्षेत्र में 19 साल की एक दलित लड़की से अगड़ी जाति के चार युवकों ने कथित रूप से गैंगरेप किया था. इस घटना के बाद हालत खराब होने पर उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया था. बाद में उसे दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल ले जाया गया था जहां गत 29 सितंबर को उसकी मृत्यु हो गई थी. इस घटना को लेकर विपक्ष ने राज्य सरकार पर जबरदस्त हमला बोला था.

(इनपुट: भाषा)