Hathras Rape Case: बहुजन समाज पार्टी प्रमुख मायावती ने हाथरस रेप और मर्डर केस मामले में यूपी की योगी सरकार के रवैये को लेकर उसकी आलोचना की है. बसपा अध्यक्ष मायावती ने हाथरस मामले के पीड़ित परिवार से मुलाकात करने गये विपक्षी नेताओं के साथ पुलिस की बदसलूकी की निंदा करते हुए सरकार को अपने रवैये में बदलाव लाने की सलाह दी है. Also Read - MP Bypolls: कमलनाथ ने BJP की महिला प्रत्याशी को कहा 'आइटम' तो भड़कीं मायावती, कांग्रेस से की यह मांग...

मायावती ने सोमवार को एक ट्वीट किया, ‘हाथरस में कथित सामूहिक दुष्कर्म और मौत के मामले के बाद सबसे पहले पीड़ित परिवार से मिलने व सही तथ्यों की जानकारी के लिए वहां 28 सितम्बर को बसपा प्रतिनिधिमण्डल गया था, जिनकी थाने में ही बुलाकर उनसे वार्ता कराई गई थी. वार्ता के बाद मिली रिपोर्ट अतिःदुखद थी, जिसने मुझे मीडिया में जाने के लिए मजबूर किया.’ Also Read - केंद्र की तर्ज पर UP Govt का सरकारी कर्मचारियों को स्‍पेशल फेस्टिवल पैकेज, 10 हजार रुपए एडवांस मिलेंगे

उन्होंने कहा, ‘इसके बाद वहां मीडिया के जाने पर भी उनके साथ हुई बदसलूकी तथा कल और परसों विपक्षी नेताओं एवं लोगों पर पुलिस का लाठीचार्ज अति-निन्दनीय व शर्मनाक है. सरकार को अपने इस अहंकारी व तानाशाही वाले रवैये को बदलने की सलाह, वरना इससे लोकतन्त्र की जड़ें कमजोर होंगी.’ Also Read - महिलाओं के खिलाफ बढ़ते अपराध पर केंद्र सरकार सख्त, MHA ने जारी की नई एडवायजरी

गौरतलब है कि हाथरस जिले के चंदपा क्षेत्र के एक गांव में 19 वर्षीय एक दलित लड़की से कथित तौर पर सामूहिक बलात्कार किया गया था. हालत बिगड़ने पर उसे अलीगढ़ के अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां से उसे दिल्ली स्थित सफदरजंग अस्पताल ले जाया गया था. वहां पिछले मंगलवार को उसकी मौत हो गयी थी.