लखनऊ: यूपी के हाथरस में दलित युवती संग गांव के ही चार लड़कों ने गैंगरेप किया. इस दौरान बदमाशों ने युवती संग क्रूरता भी की. इस दौरान युवती की जीभ काट दी गई और उसकी रीढ़ की हड्डी भी तोड़ दी गई. आज इलाज के दौरान दिल्ली के एक अस्पताल में युवती की मौत हो गई. इसके बाद बाद प्रदेश की योगी सरकार ने पीड़िता के परिजनों को 10 लाख रुपये मुआवजा देने का ऐलान किया है. हाथरस जिले के जिलाधिकारी द्वारा इस बात की सूचना दी गई और बताया गया कि इस मामले की सुनवाई फास्टट्रैक कोर्ट में चलाया जाएगा. Also Read - फिल्म सिटी के बाद अब उप्र में बनेगा पहला डाटा सेंटर पार्क, 600 करोड़ रुपये की परियोजना को मिली मंजूरी

बता दें कि यह घटना 14 सितंबर की है. इसी दिन गांव के 4 युवकों ने गैंगरेप की घटना को अंजाम दिया था. इसके बाद बदमाशों ने पीड़िता संग क्रूरता दिखानी शुरू की और उसकी जुबान को काट दिया और उसकी रीढ़ की हड्डी तोड़ दी. इसके बाद पीड़िता को वहीं जख्मी और अधमरी हालत में छोड़कर फरार हो गए. इसके बाद परिजनों ने गंभीर हालत में जख्मी पीड़िता को अस्पताल में भर्ती कराया और 9 दिन बाद जब पीड़िता होश मे आई तो उनसे पूरे मामले का खुलासा किया. पीड़िता की रीढ़ की हड्डी को ठीक करने को लेकर डॉक्टरों का कहना था कि जब तक पीड़िता की स्थिति नहीं सुधरती, तबतक रीढ़ की हड्डी को ठीक नहीं किया जा सकता है. Also Read - भाजपा सरकार की न तो नीतियां सही हैं, नीयत, योगी राज में विकास का पहिया थम गया है : अखिलेश

बता दें कि पीड़िता अपने अपने सभी भाई-बहनों में सबसे छोटी थी. पीड़िता को उसके भाई और पिता दिल्ली इलाज के लिए ले गए. अस्पताल में जब पीड़िता को होश आया तो पीड़िता ने पुलिस को पूरी आपबीती बताई. उसने बताया कि उसके सात 4 लोगों ने दुष्कर्म किया था. पीड़िता ने सभी बदमाशों के नामों का खुलासा भी किया. आरोपी- रामू, संदीप, लवकुश और रवि पर उचित धाराओं में मामला दर्ज कर लिया गया है और पुलिस ने बदमाशों को गिरफ्तार भी कर लिया है. Also Read - AAP सांसद संजय सिंह का योगी सरकार पर बड़ा आरोप, बोले- यूपी में अपराधियों पर कार्रवाई जाति पूछकर की जाती है