नई दिल्‍ली: इन संत की सुरक्षा की कैटेगरी Y+ से बढ़ाकर Z कर दी गई है. दरअसल, ये महंत नृत्य गोपाल दास हैं, जो राम जन्‍मभूमि न्‍यास के प्रमुख पीठाधीश्‍वर हैं. महंत नृत्य गोपाल दास 1993 में बाबरी मस्जिद विध्वंस के तुरंत बाद दिसंबर 1993 में गठित एक ट्रस्ट की जिम्‍मेदारी संभाल रहे हैं. यह ट्रस्‍ट राम जन्मभूमि मंदिर के निर्माण को गति दे रहा. सरकारी सूत्रों के मुताबिक, सरकार ने उनकी सुरक्षा में बढ़ोत्‍तरी सुरक्षा आंकलन के बाद लिया है.

बता दें कि साल 2001 में अज्ञात हमलावरों ने उनके और उनके शिष्यों पर देशी बम फेंके तब फेंके थे, जब वे सुबह स्नान के बाद सरयू नदी से लौट रहे थे. इस हमले में वह मामूली रूप से घायल हुए थे. इस हमले के बाद से उन्‍हें सुरक्षा दी गई थी. वर्तमान में वाई प्‍लस सुरक्षा को बढ़ाकर सरकार ने जेड कैटेगरी कर दी है.

रामचंद्र परमहंस की मृत्‍यु के बाद साल 2003 में उन्‍होंने न्‍यास का दायित्‍व संभाला. रामजन्‍म भूमि आंदोलन से जुड़े रहे और मंदिर के जल्‍द निर्माण की मांग हमेशा उठाते रहे हैं.

महंत नृत्य गोपाल दास अयोध्‍या के प्रमुख मंदिरों में एक श्री मनि राम दास छावनी के प्रमुख भी हैं. यह कई एकड़ में फैला मंदिर अयोध्‍या के प्रमुख आकर्षणों में से प्रमुख है .