बलिया: अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर विश्व हिंदू परिषद द्वारा 25 नवंबर को धर्म सभा के आयोजन से पहले भाजपा विधायक सुरेन्द्र सिंह ने गुरुवार को एक बार फिर विवादित बयान देते हुए कहा कि जरूरत पड़ने पर उस दिन संविधान ताक पर रखकर 1992 का इतिहास दोहराया जाएगा. सुरेन्द्र सिंह के विवादित बयान का वीडियो खूब वायरल हो रहा. Also Read - बीजेपी MLA का विवादित बयान, बोले- राहुल गांधी हैं राजनैतिक तोता, देश बचाने को कांग्रेस से 'वोट डिस्टेंस' बनाए जनता

Also Read - Republic Day 2020: गणतंत्र दिवस पर सैन्य शक्ति, सांस्कृतिक विरासत व सामाजिक-आर्थिक प्रगति का होगा भव्य प्रदर्शन

बीजेपी विधायक के बेतुके बोल: भगवान राम भी आ जाएं तो नहीं रोक सकते रेप की घटनाएं Also Read - Happy Republic Day 2020: यूएई में भारत के गणतंत्र दिवस का जश्न शुरू

मोदी-योगी के रहते होगा मंदिर निर्माण !

अपने विवादास्पद बयानों को लेकर अकसर चर्चा में रहने वाले बैरिया क्षेत्र से भाजपा विधायक सुरेन्द्र सिंह ने अपने ताजा बयान में कहा, ’25 नवंबर 2018 को अयोध्या में जरूरत पड़ी तो 1992 का इतिहास दोहराया जाएगा. जिस तरह 1992 में संविधान को ताक पर रखकर बाबरी मस्जिद ढहाई गई थी, आवश्यकता पड़ी तो संविधान को ताक पर रखकर राम मंदिर बनाया जाएगा.’ उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री व योगी आदित्यनाथ के मुख्यमंत्री रहते यदि राम मंदिर का निर्माण नहीं हुआ तो कभी भी राम मंदिर का निर्माण नहीं हो पायेगा. उन्होंने दावा किया कि मोदी सरकार में ही राम मंदिर का निर्माण होगा.

संविधान को हाथ में लेने से पीछे नहीं हटेंगे !

सुरेंद्र सिंह के मुताबिक 25 नवंबर को वीएचपी द्वारा अयोध्या में बुलाई गई धर्म संसद में वह पांच हजार लोगों के साथ शामिल होने जा रहे हैं. बता दें कि अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के मसले पर आगामी 25 नवंबर को विश्व हिंदू परिषद ने धर्म संसद बुलाई है. जिसे लेकर सुरक्षा-व्यवस्था चाक चौबंद है. हाई अलर्ट पर अयोध्या की सुरक्षा व्यवस्था के बीच भाजपा विधायक सुरेन्द्र सिंह का विवादित बयान सुर्ख़ियों में है. मंदिर निर्माण की आड़ में उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर भी जमकर निशाना साधा.

संविधान से ऊपर हैं भगवान राम, बिना देर किए बनना चाहिए अयोध्या में मंदिर: भाजपा विधायक

बीजेपी विधायक ने कहा, ’25 नवंबर 2018 को अयोध्या में भारी संख्या में रामभक्त जुट रहे हैं, अगर जरूरत पड़ी तो 1992 का इतिहास दोहराया जाएगा, संविधान तोड़ कर करोड़ों हिन्दुओं के आस्था के लिए राम मंदिर बनाया जाएगा.’ अयोध्या में होने जा रहे धर्म संसद को लेकर जन जागरूकता रैली निकालने वाले विधायक सुरेंद्र सिंह ने कहा कि पांच हजार लोगों के साथ वह अयोध्या जाएंगे. साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि मंदिर निर्माण को लेकर अगर हालात बिगड़ते हैं या संविधान को हाथ में लेना पड़ेगा तो वह पीछे नहीं हटेंगे. बता दें कि 25 नवंबर को विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) ने धर्म संसद बुलाई है, जिसकी तैयारियां जोर-शोर से चल रही हैं. वीएचपी को धर्मसभा में एक लाख से अधिक लोगों के जुटने की उम्मीद है. शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे भी 24 नवंबर को अयोध्या पहुंच रहे हैं. (इनपुट एजेंसी)