गाजीपुर: देवरिया बालिका गृह कांड के बाद सख्त हुए शासन-प्रशासन द्वारा सख्ती बरती जा रही है. यूपी के जिला गाजीपुर के शेल्टर होम में बड़े पैमाने पर गड़बड़ मिली हैं. शेल्टर होम अवैध रूप से चलाया जा रहा था. पुलिस ने संचालिका सहित तीन लोगों को अरेस्ट किया है.Also Read - Video: Kanpur Metro ट्रेन आज पहली बार टेस्‍ट ट्रैक पर चलती हुई आई नजर

Also Read - UP कांग्रेस के नेता राजेश पति त्र‍िपाठी और उनके बेटे ललितेश पति त्र‍िपाठी TMC में शामिल हुए

‘लड़कियों को सजा-धजाकर कार से गोरखपुर ले जाते थे, होटल में गलत काम के बाद 500-1000 रुपए देते थे’ Also Read - मथुरा में हैरान करने वाला वाकया, रिक्शा चालक को IT ने भेजा 3 करोड़ से अधिक टैक्स बकाये का नोटिस, थाने में शिकायत दर्ज

शेल्टर होम में सिर्फ दो लोग रह रहे थे

शेल्टर होम के लिए सरकार से फंड लिया जा रहा था, लेकिन आश्रय के नाम पर यहां सिर्फ एक महिला व एक नाबालिग रह रही थी. मौके पर पहुंची टीम ने सवाल-जवाब किए. रजिस्टर मांगे, इनमें अनियमितता पाई गईं. फर्जीवाड़ा सामने आने पर शेल्टर होम की संचालिका व दो अन्य को अरेस्ट किया गया है.

शेल्टर होम के रजिस्टर में दर्ज थे 21 नाम, जांच को पहुंचे अफसरों के सामने खड़ी कर दीं मोहल्ले की महिलाएं

हरदोई का भी था ऐसा ही हाल

इसी तरह हरदोई में शेल्टर होम के रजिस्टर में कुल 21 नाम थे. जांच में पता चला कि वहां सिर्फ 2 ही महिलाएं रह रही थीं. बाकी महिलाएं कहां गायब हैं, पूछा गया. इस पर संचालकों ने स्थानीय महिलाओं को शेल्टर होम की महिलाओं के तौर पर दिखा दिया. लेकिन गहनता से जांच करने पर पता चला कि उन्हें से सिर्फ दो महिलाएं शेल्टर होम की थी. एनजीओ ने 19 नाम फर्जी लिख रखे थे. ऐसा सरकार से अनुदान के लिए किया जा रहा था. मामले को लेकर एनजीओ के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है.

देवरिया बालिका गृह कांड के सवाल पर बीजेपी सांसद हेमा मालिनी का जवाब- ‘दुखद, तो अब क्या करें’

देवरिया मामले की हो रही सीबीआई जांच

5 अगस्त को देवरिया बालिका गृह में देह व्यापार कराए जाने का मामला सामने आने के बाद हलचल मची है. यहां रहने वाली नाबालिग बच्चियों के साथ बाहर ले जाकर रेप किया जाता था. एक बच्ची भागकर पुलिस के पास पहुंच गई, इसके बाद जो सच्चाई सामने आई, उससे रोंगटे खड़े हो गए. यहां से 24 बच्चियों को छुड़ाया गया, जबकि 19 अब तक गायब बताई जा रही हैं. संचालिका गिरिजा त्रिपाठी सहित चार को अब तक अरेस्ट किया गया है. यूपी सरकार ने पूरे मामले की सीबीआई जांच कराए जाने की घोषणा की है. प्रदेश के कई शेल्टर होम में भारी अनियमितताएं पाई गई हैं.