नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश में बदमाशों से एनकाउंटर के दौरान पिस्टल जाम होने पर मुंह से ‘ठांय-ठांय’ की आवाज निकालकर सुर्खियों में आए इंस्पेक्टर मनोज कुमार शुक्रवार को संभल में पुलिस और बदमाशों के बीच फायरिंग में घायल हो गए. संभल के एसपी यमुना प्रसाद ने बताया कि बाइक सवार दो बदमाशों ने पुलिस पर फायरिंग कर दी जिसमें इंस्पेक्टर मनोज कुमार घायल हो गए. पुलिस की ओर से जवाबी फायरिंग में एक बदमाश भी घायल हो गया. वहीं एक बदमाश फरार हो गया. घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

बता दें कि इंस्पेक्टर मनोज कुमार अक्टूबर में उस समय सुर्खियों में आए थे जब सोशल मीडिया पर संभल पुलिस का बदमाशों के साथ एनकाउंटर का एक वीडियो वायरल हो गया था. इस वीडियो में पिस्टल जाम होने पर एक मनोज कुमार मुंह से ही ‘ठांय-ठांय’ बोलकर ‘एनकाउंटर’ करते नजर आए थे. इस समय लोगों ने वीडियो पर जमकर चुटकी ली थी. वीडियो सामने आने के बाद एसपी यमुना प्रसाद ने कहा था कि दारोगा को हथियार चलाने की ट्रेनिंग के लिए भेजा जाएगा.

अक्टूबर 2018 में संभल जिले के असमोली थाना इलाके में पुलिस और बदमाशों के बीच मुठभेड़ हुई थी. थाना पुलिस बदमाशों का पीछा करते हुए जंगल तक पहुंच गई थी. सामने आए वीडियो में पुलिस गोलियां चलाते दिखी. गोलियां चलने की आवाजें आ रही थीं इसी बीच एक दारोगा की पिस्टल नहीं चली. वह कोशिश करते दिखे, लेकिन जब ऐसा नहीं हुआ तो उन्होंने चिल्लाना शुरू कर दिया… ‘मारो-मारो, इधर-इधर, ठांय-ठांय.’ उनकी यह ललकार साथी पुलिस कर्मियों के द्वारा बनाए जा रहे वीडियो में कैद हो गई जो बाद में वायरल हो गया था.

हालांकि बाद में दारोगा मनोज कुमार ने इस मामले में चुप्पी तोड़ी थी और बताया था कि आखिर उन्होंने क्यों एनकाउंटर के बीच बंदूक ना चलने पर मुंह से ही ‘ठांय-ठांय’ किया था. पुलिस विभाग में 28 साल पूरे कर चुके दरोगा मनोज कुमार ने बताया था कि ‘एनकाउंटर के दौरान उनकी पिस्टल जाम हो गई थी. इसके बाद उन्होंने अपराधियों पर दबाव बनाने के लिए मुंह से ही ‘मारो मारो, घेरो घेरो’ चिल्लाना शुरू कर दिया था. अपराधी उस वक्त गन्ने के खेत में ही छिपे थे. मैं अपराधियों को संदेश देना चाहता था कि उन्हें चारों तरफ से घेर लिया गया है.