लखनऊ: यूपी की राजधानी स्थित महानगर इलाके में भारतीय जनता युवा मोर्चा के नेता प्रत्यूष मणि त्रिपाठी की चाकू मारकर हत्या कर दी. इस मामले में संज्ञान लेते हुए यूपी के सीएम योगी आदित्‍यनाथ ने दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिए हैं. साथ ही सीएम ने प्रत्यूष मणि त्रिपाठी के परिजन को 10 लाख रुपये की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की है.

पुलिस ने बताया कि प्रत्यूष मणि त्रिपाठी (40) की कुछ अज्ञात लोगों ने सोमवार देर रात चाकू घोप कर हत्या कर दी. रात में पुलिस को किसी व्यक्ति के गंभीर रूप से घायल अवस्था में पड़े होने की सूचना मिली. पुलिस ने तुरंत उसे किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी के ट्रॉमा सेंटर पहुंचाया जहां डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया. पुलिस इस संबंध में मामला दर्ज कर जांच कर रही है. इस बीच, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रत्यूष मणि त्रिपाठी के परिजन को 10 लाख रुपये की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की है. उन्होंने उच्चाधिकारियों को दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के भी निर्देश दिए हैं.

लखनऊ में BJP नेता की हत्‍या, गुस्‍साए भाजपाइयों का अस्‍पताल में हंगामा

धारदार हथियार से हुई हत्‍या
भारतीय जनता युवा मोर्चा के नेता प्रत्यूष मणि त्रिपाठी के ऊपर सोमवार रात लखनऊ के बादशाहनगर इलाके में कुछ अज्ञात लोगों ने तेजधार हथियार से हमला किया. रास्ते से गुजर रहे लोगों ने त्रिपाठी को लहूलुहान हालत में देखा. हमलावरों की पहचान नहीं हो पाई है क्योंकि किसी के घटनास्थल पर पहुंचने से पहले ही वे फरार हो गए थे. भाजपा नेता को किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी (केजीएमयू) के ट्रॉमा सेंटर में ले जाया गया लेकिन उनकी मौत हो गई. उनकी पत्नी का कहना है कि वह पांच लोगों के नाम ले रहे थे, जिन्होंने उन पर हमला किया.

बुलंदशहर हिंसा: CM योगी ने कड़ी कार्रवाई के दिए निर्देश, मृतक सुमित के परिवारजनों को 10 लाख की सहायता

जान से मारने की मिल रही थी धमकी, पुलिस से मांगी थी सुरक्षा
उनके परिवार के सदस्यों ने कहा कि त्रिपाठी का छेड़छाड़ की घटना को लेकर कुछ दिन पहले अपने पड़ोसियों से विवाद हो गया था. अस्पताल के बाहर बड़ी संख्या में उनके समर्थकों ने अस्पताल के बाहर प्रदर्शन किया, पुलिस के विरोध में नारेबाजी की और लखनऊ पुलिस के वरिष्ठ अधीक्षक कलानिधि नैथानी की तुरंत बर्खास्तगी की मांग की.उग्र भीड़ ने आरोप लगाया कि त्रिपाठी ने जिला पुलिस प्रमुख को बताया था कि उन्हें जान से मारने की धमकियां दी जा रही हैं. उन्होंने सुरक्षा की मांग की थी लेकिन उनके आग्रह पर कोई ध्यान नहीं दिया गया.