Jaya Prada-Azam Khan from Rampur Lok Sabha Seat: लोकसभा चुनाव 2019 में यूपी की रामपुर संसदीय सीट में लड़ाई दिलचस्‍प हो गई है. क्‍योंकि यहां से फिल्‍म अभिनेत्री जयाप्रदा अपने चिर विरोधी आजम खान के सामने चुनाव मैदान में हैं. वे भाजपा की तरफ से रामपुर में लोकसभा चुनाव लड़ेंगी. जया प्रदा पहले सपा में बरसों तक थीं और आजम खान ने 2004 में पहली बार लोकसभा चुनाव में जयाप्रदा को सांसद बनाने में मदद की थी. उस चुनाव में आजम खान ने जया प्रदा के लिए वोट करने को अपना सम्मान बताया था. हालांकि साल 2009 में दोनों के बीच एक-दूसरे को हराने की होड़ मची थी, हालांकि वे (जयाप्रदा) चुनाव जीतने में सफल हुईं थी. इस बार फिर जयाप्रदा और आजम खान चुनावी मैदान में ताल ठोंक रहे हैं. बता दें कि रामपुर सीट पर अल्‍पसंख्‍यकों की संख्‍या काफी है और आजम खान यहां से नौ बार विधायक रह चुके हैं.Also Read - अजनबी के साथ ये काम कर रही थी महिला तभी आ गए ससुराल वाले, पेड़ से लटकाकर किया...

Lok Sabha Election 2019: योगी का सपा-बसपा पर निशाना, ‘हमारे काम से लुटेरे एक हो गए’ Also Read - UP: Viral Video में कोचिंग टीचर छात्रा के चेहरे पर केक लगाते हुए आया नजर, पुलिस ने भेजा जेल

इकोनॉमिक टाइम्‍स की रिपोर्ट के मुताबिक, रामपुर सीट से भाजपा की ओर से जयाप्रदा का नाम सामने आने के बाद आजम खान ने कहा कि मेरे खिलाफ चुनाव लड़ाने के लिए बीजेपी को लोकसभा कैंडिडेट का आयात करना पड़ा है. बता दें कि सपा प्रत्‍याशी के रूप में जयाप्रदा को रामपुर से जिताने में आजम खान की महत्वपूर्ण भूमिका रही थी. पहली बार सपा के टिकट पर ही लोकसभा चुनाव में जयाप्रदा ने कांग्रेस की बेगम नूर बानो को 85,000 वोट से हराया था. हालांकि साल 2009 के लोकसभा चुनाव तक स्थितियां काफी बदल चुकी थी. आजम खान और जयाप्रदा के रिश्‍तों में दरार आ चुकी थी. इसकी वजह जयाप्रदा का अमर सिंह के करीब आना था. उस समय आजम खान ने जयाप्रदा के टिकट पर आपत्ति की. लेकिन उन्हें ही पार्टी विरोधी गतिविधियों के आरोप में सपा से निकाल दिया गया. उस वक्त भी जयाप्रदा 31,000 वोट से चुनाव जीत गई थीं. Also Read - UP: रामपुर जिला प्रशासन ने जौहर विश्वविद्यालय से 173 एकड़ जमीन वापस ली

नोटबंदी के Fake Video पर कांग्रेस के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करेगी भाजपा

2014 में बिजनौर से हार गईं थी जयाप्रदा
साल 2014 के लोकसभा चुनाव में आजम खान फिर से समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए. लेकिन तब पार्टी ने जयाप्रदा को रामपुर चुनाव नहीं लड़ाया. बाद में वे राष्‍ट्रीय लोकदल के टिकट पर बिजनौर लोकसभा सीट से चुनाव लड़ाया गया. जहां पर वे चुनाव हार गईं थी. बीजेपी ज्वाइन करने के बाद जयाप्रदा ने कहा कि वे रामपुर से अलग नहीं रह सकती. उन्होंने मंगलवार को भाजपा में शामिल होने के बाद कहा कि वे रामपुर में जीत हासिल करेंगी. उधर, सपा नेता आजम खान ने कहा कि वे (जयाप्रदा) 2014 के बाद से एक बार भी रामपुर का दौरा नहीं किया है और यहां तक उनका कार्यालय भी बंद कर दिया है.

पीएम नरेंद्र मोदी आज से करेंगे चुनाव प्रचार का आगाज, मेरठ में होगी पहली जनसभा