मुजफ्फरनगर (उत्तर प्रदेश): यूपी की क्षत्रिय पंचायत ने लड़कियों के जींस और स्कर्ट पहनने पर प्रतिबंध लगा दिया है. पंचायत ने कहा है कि अगर लड़कियां नहीं मानीं तो उन्हें सजा दी जायेगी. यही नहीं लड़कों के हाफ पैंट पहनने पर भी रोक लगा दी गई है. पंचायत का कहना है कि इससे संस्कृति और परंपरा नष्ट हो रही है.Also Read - हादसों का मंगलवार: बुलंदशहर-जींद में भीषण सड़क हादसा, 11 लोगों की मौत, 22 लोग घायल

मुज़फ्फरनगर के पीपलशाह गांव में एक क्षत्रिय पंचायत ने ड्रेस कोड लागू करते हुए ये फरमान जारी किए हैं. पंचायत का कहना है कि लड़कियों को इस तरह के कपड़े नहीं पहनने चाहिए. इससे परंपरा और संस्कृति नष्ट हो जाती है. पंचायत ने कहा कि अगर नियम तोड़े गए तो इसकी सजा मिलेगी. Also Read - किसी से नाराजगी की मेरी हैसियत नहीं... जानें आजम खान ने क्यों दिया यह बयान...

क्षत्रिय पंचायत ने कहा है कि प्रतिबंध को धता बताने वालों का सामाजिक बहिष्कार होगा. मंगलवार शाम को हुई पंचायत में एक दर्जन से अधिक गांवों के क्षत्रिय समुदाय के सदस्यों ने भाग लिया. पंचायत की अध्यक्षता करने वाले ठाकुर पूरन सिंह ने कहा कि जब परंपरा और संस्कृति नष्ट हो जाती है, तो समाज भी नष्ट हो जाता है. Also Read - सिद्धार्थनगर में तेज रफ्तार बोलेरो ने ट्रक को मारी टक्कर, 8 की मौत; CM योगी ने जताया शोक

उन्होंने कहा, “आपको एक संस्कृति को नष्ट करने के लिए बंदूकों की आवश्यकता नहीं है. परंपरा से हटना अपने आप ही संस्कृति को नष्ट कर देगा. आज से, किसी भी युवा लड़के या पुरुष को हाफ पैंट या शॉर्ट्स पहने नहीं देखा जाना चाहिए. अगर कोई पंचायत के फैसले के विरुद्ध जाता है तो उसे पंचायत से सजा का सामना करना होगा.”

ठाकुर पूरन सिंह ने कहा कि लड़कियां उच्च शिक्षा प्राप्त करने की ओर बढ़ रही हैं, लेकिन उन्हें परंपरा के अनुसार कपड़े पहनने का ध्यान रखना चाहिए. पंचायत ने यह भी कहा कि आगामी पंचायत चुनाव के दौरान शराब के सेवन से बचना चाहिए. पंचायत ने पंचायत चुनावों में सीटों के आरक्षण का भी विरोध किया.