Kalyan Singh Last Rites: उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री राज्यपाल कल्याण सिंह के पार्थिव शरीर का सोमवार को राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया. अंतिम यात्रा के दौरान दिवंगत नेता को श्रद्धांजलि देने वालों में केंद्रीय मंत्री अमित शाह, राजनाथ सिंह और स्मृति ईरानी, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज चौहान, उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी, उत्तर प्रदेश भाजपा अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह और पूर्व केंद्रीय मंत्री उमा भारती शामिल रहीं.Also Read - फल देने का झांसा देकर बगीचे में ले गए, फिर दो लोगों ने किया नाबालिग लड़की का रेप; सोशल मीडिया पर डाला वीडियो

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ रविवार को लखनऊ से लाए जाने के बाद से BJP के दिग्गज नेता के पार्थिव शरीर और उनके परिजनों के साथ थे. इस मौके पर हजारों समर्थकों और फॉओअर्स के अलावा यूपी के कई मंत्री भी मौजूद थे. अंतिम संस्कार दिवंगत नेता के बेटे और सांसद राजवीर सिंह ने किया, जिनके साथ उनके बेटे और राज्य सरकार में मंत्री संदीप सिंह भी मौजूद रहे. Also Read - UP News: आजम खां, मुख्तार अंसारी और अतीक अहमद की अब कुंडली खंगालेगी ED, मनी लान्ड्रिंग का है मामला

कल्‍याण सिंह को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए अमित शाह ने कहा, ‘कल्‍याण सिंह का इस दुनिया से जाना भाजपा के लिए बहुत बड़ी क्षति है.’ उन्होंने कहा, ‘उनके (कल्याण) जाने के साथ ही भाजपा ने अपना एक दिग्गज और हमेशा संघर्षरत रहने वाला नेता खोया है. देश भर के दबे कुचले और पिछड़ों तथा विशेषकर उत्तर प्रदेश के दबे कुचले पिछड़ों ने अपना एक हित चिंतक गंवाया है.’ Also Read - CM Yogi Adityanath का बड़ा फैसला, यूपी में डॉक्टरों की रिटायरमेंट की उम्र बढ़ेगी, जानिए कब होंगे रिटायर

केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा, ‘राम जन्मभूमि आंदोलन के कल्‍याण सिंह बड़े नेता रहे और राम जन्मभूमि आंदोलन के लिए सत्ता त्‍याग करने में तनिक भर भी उन्होंने नहीं सोचा.’ पुरानी स्मृतियों को ताजा करते हुए शाह ने कहा, ‘जब राम जन्मभूमि का शिलान्यास हुआ तो उसी दिन बाबूजी से बात हुई तो बड़े हर्ष और संतोष से उन्होंने बताया कि आज मेरे जीवन का लक्ष्य पूरा हुआ. उनका पूरा जीवन विकास और उप्र के लोगों को लिए समर्पित रहा. उत्तर प्रदेश को अच्‍छा प्रदेश बनाने के लिए वह कार्यरत रहे.’

मालूम हो कि उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और राजस्थान के पूर्व राज्यपाल कल्याण सिंह का शनिवार रात सवा नौ बजे लखनऊ स्थित एसजीपीजीआई में निधन हो गया था. वह 89 वर्ष के थे और पिछले कुछ समय से बीमार थे.

(इनपुट: IANS,भाषा)