लखनऊ: हिंदू नेता कमलेश तिवारी की शुक्रवार को यहां हुई हत्या ने एक नया मोड़ ले लिया है. तिवारी की पत्नी किरण ने कहा कि उनके पति की हत्या के पीछे बिजनौर के एक मौलवी का हाथ है. पुलिस सूत्रों ने दावा किया है कि पैगंबर मोहम्मद के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी करने के बाद तिवारी संभवत: आईएसआईएस की हिट लिस्ट में शामिल रहे होंगे.

 

पैगंबर से जुड़ी टिप्पणी से सुर्खियों में आए थे कमलेश तिवारी, गोडसे का मंदिर बनाने का किया था ऐलान

सूत्रों के अनुसार, गुजरात पुलिस के द्वारा 2017 में गिरफ्तार हुए दो संदिग्ध ओबेद मिर्जा और कासिम ने पूछताछ के दौरान खुलासा किया था कि तिवारी उनकी हिट लिस्ट में थे. दोनों ने कहा कि उन्हें तिवारी का एक वीडियो दिखाया गया था और उन्हें खत्म करने के लिए कहा गया था. तिवारी के परिवारिक सूत्र ने कहा कि उन्होंने अपनी जान को खतरा बताते हुए सुरक्षा की मांग की थी. उन्होंने इस बारे में ट्वीट भी किया था. पुलिस ने कहा है कि ऐसा लग रहा है कि हमलावारों की मृतक से जान पहचान थी.

हिन्दू महासभा के पूर्व अध्यक्ष कमलेश तिवारी की लखनऊ में गला रेतकर हत्या

तिवारी के साथ हमलावरों ने बिताए 23 मिनट
एक अधिकारी ने कहा कि सीसीटीवी फुटेज में दिख रहा है कि तिवारी के साथ हमलावरों ने 23 मिनट बिताए और चाय पी. इसके बाद उन्होंने उनका गला काटा और फिर गोलियों से भून दिया. वह यह सुनिश्चत करने के बाद ही गए कि तिवारी मर चुके हैं.