नई दिल्‍ली: यूपी की राजधानी में हिंदू महासभा के पूर्व नेता व हिंदू समाज पार्टी के अध्यक्ष नेता कमलेश तिवारी के मर्डर केस में गुजरात के सूरत में गिरफ्तार तीन आरोपियों को लखनऊ लाया गया है, वहीं, मृतक तिवारी ने की मां कुसुम तिवारी ने पुलिस की कार्रवाई पर खुशी जाहिर करते हुए मांग की है कि तीनों आरोपियों को फांसी दी जाए. सीतापुर में उन्‍होंने कहा कि मैं सरकार के द्वारा की गई कार्रवाई से संतुष्‍ट हूं. कोर्ट ने आरोपियों को चार दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया है.

कमलेश तिवारी हत्याकांड: गुजरात ATS ने मुख्य आरोपी अशफाक और मोइनुद्दीन को किया गिरफ्तार

मंगलवार को ये तीनों आरोपी मौलाना शेख सलीम, फैज़ान एवं राशिद अहमद पठान सूरत में पकड़े गए थे. वहां से उन्हें लखनऊ लाया गया था. उप्र आतंकवाद विरोधी दस्ता (एटीएस) ने कमलेश तिवारी हत्याकांड में सूरत से गिरफ्तार तीन आरोपियों को मंगलवार देर शाम प्रभारी मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट सुदेश कुमार के आवास पर पेश किया था. जिसके बाद जांचकर्ताओं ने तीनों को पुलिस हिरासत में देने का अनुरोध किया. इसके बाद कोर्ट ने तीनों की 14 दिनों की न्यायिक हिरासत मंजूर कर ली. अदालत ने चार दिनों के लिए पुलिस रिमांड स्वीकार कर ली.

गुजरात एटीएस ने हिंदूवादी नेता कमलेश तिवारी हत्या मामले में मंगलवार को वांछित तीन लोगों को गिरफ्तार किया था. अधिकारियों ने बताया कि 18 अक्टूबर को लखनऊ में तिवारी की हत्या के बाद सूरत के निवासी आरोपी अशफाक हुसैन जाकिर हुसैन शेख (34) और मोइनुद्दीन पठान (27) और मौलाना शेख सलीम फरार थे.

गुजरात आतंक रोधी दस्ते (एटीएस) के पुलिस उपमहानिरीक्षक हिमांशु शुक्ला ने बताया कि मंगलवार शाम गुजरात-राजस्थान सीमा पर शामलाजी के पास से उन्हें तब गिरफ्तार किया गया जब वे गुजरात में घुसने वाले थे. पुलिस अधिकारी ने बताया कि तकनीकी सर्विलांस के जरिए उनकी स्थिति का पता लगाया गया, जब दोनों ने फरार होने के बाद अपने परिवार और दोस्तों से बात की.