लखनऊ: उत्तर प्रदेश के कानपुर में देर रात शातिर बदमाशों को पकड़ने गई पुलिस टीम पर हुई ताबड़तोड़ फायरिंग में आठ पुलिसकर्मी शहीद हो गए. दो/तीन जुलाई की दरम्यानी रात को चौबेपुर बिकरू गांव में हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे को एक मामले में पकड़ने गई पुलिस टीम पर विकास के घर की छत पर मौजूद बदमाशों ने गोलियां बरसायी थीं. Also Read - लखनऊ के होटल में मिला था प्रेमी जोड़े का शव, पोस्टमार्टम में सामने आई ये बात, जानिए

इस मामले में एक पुलिस उपाधीक्षक और तीन उपनिरीक्षकों समेत आठ पुलिसकर्मी शहीद हो गये थे. अब कानपुर के बिकरू गांव में विकास दुबे के गुर्गों से पुलिस की हुई मुठभेड़ में नए नए खुलासे हो रहे हैं. रिपोर्ट्स के मुताबिक हमलावरों ने पुलिस टीम पर तमंचों के साथ एके-47 से भी गोलियां बरसाई थीं. Also Read - विकास दुबे के गांव में दबिश देने से पहले का पुलिस का ऑडियो अब हुआ वायरल, पूर्व SSP की बढ़ेगी मुसीबत

रीजेंसी अस्पताल में एक्सरे से पहले शहीद सिपाही जितेंद्र पाल के शरीर से एके-47 की एक गोली बरामद हुई है. पोस्टमार्टम रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि गोली सीने से सटाकर मारी गईं थीं. पोस्टमार्टम के दौरान पता चला कि चार जवानों के शरीर से गोलियां आर-पार निकल गई थीं. अन्य चार जवानों के शरीर से 315 और 312 बोर के कारतूस के टुकड़े बरामद हुए हैं. Also Read - सुशांत सिंह राजपूत की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के लिए अस्पताल पहुंची बिहार पुलिस, लेकिन लौटना पड़ा खाली हाथ

रिपोर्ट में बताया गया है कि दारोगा अनूप को सबसे ज्यादा सात गोलियां मारी गईं. हत्यारे यहीं नहीं रुके उन्होंने सीओ देवेंद्र मिश्रा के चेहरे, सीने और पैर पर सटाकर गोली मारी. रिपोर्ट में ये भी खुलासा हुआ है कि उनका भेजा और गर्दन का हिस्सा उड़ गया था, उनके पैर और कमर पर कुल्हाड़ी से वार के निशान पाए गए.

बता दें कि कानपुर पुलिस ने रविवार की सुबह एक संक्षिप्त मुठभेड़ के बाद विकास दुबे गिरोह के एक सदस्य को गिरफ्तार कर लिया है, जो उत्तर प्रदेश के आठ पुलिसकर्मियों को मारने वाले हत्यारों में से एक रहा है. कानपुर के एसएसपी दिनेश कुमार के मुताबिक, 40 वर्षीय दया शंकर अग्निहोत्री को कल्याणपुर इलाके में सुबह के करीब 4.40 बजे पुलिस ने धर दबोचा.

उन्होंने कहा, “उसने भागने की कोशिश की, लेकिन पुलिस की टीम ने उसके पैर में गोली मार दी और फिर उसे गिरफ्तार कर लिया गया.” उसके पास एक एक देसी कट्टा और कारतूस बरामद किए गए हैं. दया शंकर शुक्रवार को बिकरू गांव में आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के आरोपियों में से एक है.