Vikas Dbey Arrested News:  कानपुर में 8 पुलिसकर्मियों की हत्या करने वाले कुख्यात गैंगस्टर विकास दुबे की गिरफ्तारी हो चुकी है. विकास दुबे को उज्जैन से गिरफ्तार (Vikas Dubey Arrested in Ujjain) किया गया है. उज्जैन के जिलाधिकारी और मध्य प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने विकास दुबे की गिरफ्तारी की पुष्टि की है. Also Read - प्लाज्मा दान करेंगे मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, बोले- कोरोना वायरस पर जीत से कम कुछ नहीं चाहिए

बता दे कि विकास दुबे उज्जैन महाकाल मंदिर में विकास दर्शन करने पहुंचा था. दुबे को मंदिर के बाहर सुरक्षागार्डों ने पकड़ा. इस खबर के सामने आने के बाद पुलिस अधीक्षक मनोज सिंह स्वंय महाकाल मंदिर पहुंचे और पुलिस वाहन में लेकर चले गए. इस बाबत डीजीपी ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को जानकारी दी है. इस मामले पर शिवराज सिंह चौहान ने योगी आदित्यनाथ से बात भी की है. शिवराज सिंह चौहान ने विकास दुबे की गिरफ्तारी के मामले पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ से फोन पर चर्चा की है. मध्य प्रदेश पुलिस जल्द ही विकास दुबे को यूपी पुलिस को हैंड ओवर करेगी. गिरफ्तारी के बाद पुलिस द्वारा विकास दुबे की फिलहाल किसी अज्ञात स्थान पर ले जाया गया है. Also Read - राज्य सरकार ने वापस लिया फैसला, अब कल से महाकाल मंदिर के दर्शन कर सकेंगे मध्य प्रदेश से बाहर के श्रद्धालु

क्या हुआ था उस रात Also Read - Gautam Buddha Nagar: सीएम योगी ने 400 बेड वाले कोविड अस्पताल का किया उद्घाटन, बना जिले का सबसे बड़ा हॉस्पिटल

वर्ष 2001 में विकास दुबे ने पुलिस थाने में घुसकर दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री संतोष शुक्ला की हत्या कर दी थी. इसी मामले में हिस्ट्रीशीटर के घर पुलिस गुरुवार की रात दबिश देने गई थी. इस दौरान विकास दुबे और उसके गुर्गों ने पुलिस पर अंधाधुंध फायरिंग कर दी. इस फायरिंग में डीएसपी, दरोग समेत 8 पुलिसकर्मियों की मौत हो गई थी. इस घटना के बाद जैसे पूरे देश में हलचल मच गई थी. एक विकास दुबे ने पूरी प्रदेश की फोर्स को खूब नचाया लेकिन अंतत: हफ्तेभर में उसकी गिरफ्तारी भी हो गई.

विकास दुबे के दाहिए हाथ अमर दुबे का हुआ एनकाउंटर

बुधवार के दिन विकास दूबे का दाहिना हाथ माने जाने वाले अमर दुबे को एनकाउंटर में मार गिराया गया. अमर दूबे को हमीरपुर में हुए मुठभेड़ में पुलिस ने मार गिराया था. बता दें कि अमर दूबे को विकास दूबे का बेहद करीबी माना जाता है. बता दें कि अमर की कुछ दिन पहले ही शादी हुई थी. जिस रात पुलसकर्मियों की निर्ममता से हत्या की गई थी उस दिन गोलीबारी करने में अमर दुबे भी शामिल था.

श्यामू बाजपेयी की गिरफ्तारी

बुधवार के दिन विकास दूबे के एक करीबी साथी श्यामू बाजपेयी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. श्यामू और पुलिस के बीच हुई गोलीबारी में श्यामू के पैर में गोली लगने से वह घायल हो गया था. इसके बाद श्यामू को गिरफ्तार कर पुलिस उसे इलाज के लिए अस्पताल लेकर गई. बता दें कि श्यामू बाजपेयी पर पुलिस ने 25,000 का इनाम भी रखा था.

गुरुवार को हुआ एक और एनकाउंटर

हफ्ते भर से यूपी पुलिस को विकास दुबे की तलाश थी. इसी मामले में विकास दुबे के करीबी सहयोगी कार्तिकेय की पुलिस हिरासत से भागने की कोशिश करते समय गोली लगने से मौत हो गई. एक अधिकारी ने बृहस्पतिवार को इसकी जानकारी दी थी. इस बाबत उत्तर प्रदेश के अतिरिक्त महानिदेशक (कानून एवं व्यवस्था) प्रशांत कुमार ने बताया कि कार्तिकेय ऊर्फ प्रभात ने ट्रांजिट रिमांड पर फरीदाबाद से कानपुर लाये जाने के दौरान पुलिस हिरासत से भागने की कोशिश की. उन्होंने बताया कि कार्तिकेय ने पुलिसकर्मी की पिस्तौल छीन कर एसटीएफ कर्मियों पर गोली चला दी, जिसमें दो कर्मी घायल हो गए. कुमार ने बताया कि पुलिस की जवाबी कार्रवाई में कार्तिकेय घायल हो गया था और उसे अस्पताल ले जाया गया, जहां उसने दम तोड़ दिया.

विकास के सहयोगी की इटावा में मुठभेड़

बीते कल कुख्यात विकास दुबे का सहयोगी बउवा दुबे उत्तर प्रदेश इटावा में मुठभेड़ में मारा गया, उस पर 50,000 रुपये का इनाम था. साथ ही बीते कल हमीरपुर जिले में एक एनकाउंटर के दौरान विकास दुबे का दाहिना हाथ कहे जाने वाले अमर दुबे की भी एनकाउंटर में मौत हो गई थी. बता दें कि फिलहाल विकास को गिरफ्तार कर किसी अज्ञात स्थान पर ले जाया गया है. विकास से पूछताछ की जा रही है.

कैसा था विकास दुबे का साम्राज्य

बता दें कि विकास दुबे पिछले 2 दशकों से गुंडागर्दी में संलिप्त था. यही नहीं पिछले दो दशकों से कई राजनीतिक पार्टियों से इसका जुड़ाव भी रहा है. सरकारें बदलती गई और विकास दुबे अपनी जड़े जमाए रहा. क्योंकि बदलती सरकार के साथ विकास दुबे के चुनावी नारे भी बदल जाते थे. इस कारण कई सरकारों में विकास दुबे के खिलाफ किसी तरह की कार्रवाई नहीं की गई. इस बीच विकास ने माफियागिरी के दम पर बेशुमार दौलत कमाया. विकास के गुर्गों को पास Audi जैसे महंगी गाड़िया इस बात का प्रमाण है कि विकास के गैंग ने कितनी दौलत कमाई होगी.

विकास के गांव व इलाके में उसके नाम का खौफ यह है कि वह लोगों की पिटाई भी करता है, धमकी भी देता है. बावजूद विकास के खिलाफ कोई आवाज नहीं उठाता क्योंकि राजनीतिक संरक्षण उसे प्राप्त. इन सबसे भी बढ़कर यह कि पुलिस विभाग के कई अधिकारियों के साथ उसका उठना बैठना भी है. बीते गुरुवार की रात 8 पुलिसकर्मियों की हत्या के बाद इस बात का खुलासा हुआ कि विकास के साथ पुलिसकर्मी भी जुड़े हुए हैं.