लखनऊ: निर्वाचन आयोग के निर्देश पर कैराना लोकसभा उप चुनाव की मतगणना में धांधली के आरोप की जांच के बाद शामली के डीएम आईएएस अधिकारी इंद्र विक्रम सिंह को हटा दिया गया है. फिलहाल उन्‍हें वेटिंग में डाल दिया गया है. बता दें कि मतगणना में धांधली की शिकायत के बाद मामले की जांच निर्वाचन आयोग कर रहा था. जांच के बाद आयोग के आदेश पर यूपी सरकार ने इंद्रविक्रम सिंह को हटा दिया.

 

दरअसल कैराना लोकसभा उपचुनाव में मतगणना शीट में मतों का जोड़ गलत पाए जाने पर केंद्रीय निर्वाचन आयोग के निर्देश पर यूपी सरकार ने यह कार्रवाई की है. जानकारी के मुताबिक, उपचुनाव की मतगणना के दौरान वोटों के जोड़ का अंतर तीन हजार था, लेकिन इससे नतीजे पर कोई फर्क नहीं पड़ा, लेकिन एक भी वोट का गलत जोड़ बेहद गंभीर मसला है. ऐसे में जिला निर्वाचन अधिकारी शिथिल पर्यवेक्षण के जिम्‍मेदार पाए गए. चुनाव आयोग ने निर्देश दिया है कि मई 2018 में कैराना लोकसभा के दौरान रिटर्निंग अधिकारी के रूप में शामली जिला मजिस्ट्रेट इंद्र विक्रम सिंह को एक साल के लिए मतदान से संबंधित काम में शामिल नहीं होना चाहिए.

कैराना की जीत से RLD को मिली संजीवनी, मुजफ्फरनगर दंगों के बाद जाट-मुस्लिम गठजोड़ में कामयाब

अखिलेश सिंह को शामली का नया डीएम बनाया
फिलहाल शासन द्वारा मंगलवार को जारी आदेश के अनुसार इंद्र विक्रम सिंह को तत्काल प्रभाव से डीएम पद छोड़कर नियुक्ति विभाग को रिपोर्ट करने के निर्देश दिए गए हैं. इंद्र विक्रम सिंह की जगह आईएएस अखिलेश सिंह को शामली का नया डीएम बनाया गया है. बता दें कि अखिलेश सिंह अभी तक नगर विकास विभाग में विशेष सचिव व स्थानीय निकाय निदेशालय में निदेशक पद पर तैनात थे. शासन की ओर से उनको भी तत्काल चार्ज संभालने के निर्देश दिए गए हैं.