लखनउ: उत्तर प्रदेश के गोंडा जिले में कर्नलगंज क्षेत्र से एक बड़े व्यापारी के अपहृत छह साल के बच्चे को पुलिस और स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने शनिवार को सकुशल छुड़ा लिया और सभी अपहर्ताओं को गिरफ्तार कर लिया. गोंड के कर्नलगंज क्षेत्र से 6 साल के बच्चे का अपहरण कर चार करोड़ रुपए की फिरौती के लिए किया गया था. एक महिला भी गिरफ्तार हुई है, जिसने अंजाम भुगतने की धमकी देते हुए चार करोड़ रुपए की फिरौती मांगी थी.Also Read - UP Police HO Recruitment: यूपी पुलिस में हेड ऑपरेटर के पद पर आई बंपर भर्ती, आवेदन शुरू, जानें कैसे करें आवेदन

एसटीएफ और पुलिस के संयुक्‍त ऑपरेशन के दौरान दो बदमाश दीपू और उमेश मुठभेड़ में घायल हो गए, जबकि अपह्रत बच्‍चा सकुशल बरामद कर लिया गया. अपहरण में इस्तेमाल आल्टो कार, 32 बोर की एक पिस्तौल, दो अदद 315 बोर तमंचा भी बरामद हुआ है. Also Read - UP Police Recruitment 2022: यूपी पुलिस में 2,430 पदों पर बंपर भर्ती, आवेदन की प्रक्रिया आज से शुरू

यूपी पुलिस की एसटीएफ और पुलिस टीम ने संयुक्‍त ऑपरेशन में बच्‍चे को सकुशल छुड़ा लिया और इस दौरान हुई फायरिंग में दो बदमाश घायल भी हुए हैं. Also Read - UPPBPB Constable Recruitment 2022: यूपी पुलिस में कांस्टेबल और फायरमैन के 26000 पदों पर भर्ती के लिए जल्‍द शुरू होगी आवेदन प्रक्रिया, जानें

बता दें कि अपहर्ताओं ने वारदात को अंजाम देने के बाद फोन पर परिजनों से चार करोड़ रुपए की फिरौती मांगी थी. कर्नलगंज थाना क्षेत्र के मोहल्ला गाड़ी बाजार निवासी गुटखा मसाला के एक बड़े व्यापारी राजेश कुमार गुप्ता के छह वर्षीय पौत्र का आल्टो कार सवार बदमाशों ने अपहरण कर लिया था.

अपर मुख्य सचिव (गृह एवं सूचना) अवनीश कुमार अवस्थी ने बताया कि गोंडा में शुक्रवार को अपहृत बच्चा सकुशल मिल गया है. इस उल्लेखनीय सफलता के लिए पुलिस और एसटीएफ की संयुक्त टीम के लिए दो लाख रुपए के इनाम की घोषणा की गई है.

अवस्थी ने बताया कि अपर पुलिस महानिदेशक (कानून व्यवस्था) और पुलिस महानिरीक्षक (एसटीएफ) की अगुवाई में जनपद गोंड के कर्नलगंज क्षेत्र से छह साल के बच्चे का अपहरण कर चार करोड़ रुपए की फिरौती मांगने वाले गिरोह के सदस्यों को गिरफ्तार कर लिया गया है.

अपर मुख्य सचिव (गृह एवं सूचना) ने बताया कि बच्चे का अपहरण करने वाले गिरोह के सूरज पांडेय, छवि पांडेय (पत्नी सूरज पांडेय), राज पांडेय, उमेश यादव और दीपू कश्यप को गोंडा पुलिस और एसटीएफ की संयुक्त टीम ने मुठभेड़ में गिरफ्तार किया.

बताया जाता है कि शुक्रवार को दोपहर बाद स्वास्थ्य विभाग का परिचय पत्र टांग कर कुछ लोग मोहल्ले में मास्क का वितरण करने के बहाने से आए और मास्क वितरित करते हुए लोगों का नाम एक कागज पर लिखा. उन्होंने कोरोना वायरस के कारण मोहल्ले को सेनिटाइजेशन कराने व सेनिटाइजर का वितरण करने का झांसा भी दिया था .

पुलिस ने बताया था कि वे राजेश गुप्ता के छह वर्षीय पौत्र को थोड़ी दूर पर खड़ी गाड़ी से सेनिटाइजर देने के बहाने अपने साथ ले गए और बाद में बच्चे को लेकर फरार हो गए. थोड़ी देर बाद एक महिला की आवाज में फोन करके चार करोड़ रुपए की फिरौती मांगी गई थी .