प्रयागराज: आज मौनी अमावस्या के पर्व पर बड़ी संख्या में देश-विदेश श्रद्धालु संगम पहुंचे हैं. प्रदेश सरकार का अनुमान है कि आज लगभग 3 करोड़ श्रद्धालु संगम में पवित्र स्नान करेंगे जिसके लिए व्यापक सुरक्षा इंतजाम किए गए हैं. उत्तर प्रदेश सरकार के आंकड़ों के मुताबिक रविवार तक संगम में 7.49 करोड़ श्रद्धालु डुबकी लगा चुके हैं. भव्य कुंभ मेले में यूपी सरकार ने संगम किनारे पहले शाही स्नान (मकर संक्रांति ) के अवसर पर हेलिकॉप्टर से श्रद्धालुओं के ऊपर फूल भी बरसाए गए थे.

मौनी अमावस्या पर उमड़ा जन-सैलाब


वहीँ आज रविवार को मौनी अमावस्या के पर्व पर पवित्र स्नान के लिए आस्था की लहरों पर सवार तीर्थराज प्रयाग का हर कोना श्रद्धालुओं के भक्ति के सागर में डूब गया. सड़कों से संगम तक हर तरफ लोगों के सिर ही सिर नजर आ रहे हैं. 32 सौ हेक्टेयर के बड़े एरिया में बसे कुंभ मेला क्षेत्र में मौनी अमावस्या के पर्व पर 3 करोड़ श्रद्धालुओं संगम में डुबकी लगाने का अनुमान है. भारी तादाद में श्रद्धालुओं की भीड़ को देखते हुए प्रयागराज आने वाले मार्गों पर वाहनों का प्रवेश रोक दिया गया है. संगम जाने वाली सड़कों पर सभी वाहनों की इंट्री पूरी तरह से रोक दी गई है जिससे कि पैदल श्रद्धालुओं को किसी तरह की परेशानी न हो.

देश-विदेश से पहुंचे श्रद्धालुओं में खासा उत्साह

सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम
अपर पुलिस महानिदेशक एसएन साबत के मुताबिक मेले के लिए समुचित जो सुरक्षा व्यवस्था का अभ्यास टीम ने पहले ही कर लिया है. रविवार मध्य रात्रि से मुहूर्त लगने से स्नान रात्रि में ही शुरू हो गए थे. उन्होंने कहा कि मकर संक्रांति के पहले स्नान की तुलना में पुलिस फोर्स बढ़ा दी गई है. साथ ही पुलिस बल किसी भी आपात स्थिति से निपटने में सक्षम है उसका अभ्यास भी पहले ही किया जा चुका है. उन्होंने बताया कि रेलवे की निगरानी व्यवस्था और मेला की निगरानी व्यवस्था के बीच सामंजस्य स्थापित किया गया है. आईजी (कुंभ मेला) केपी सिंह के मुताबिक सभी महत्वपूर्ण मार्गों पर हमने अर्द्धसैनिक बल तैनात किए हैं. इसके अलावा जल पुलिस की भी एक कंपनी लगाई गई है जिसके कर्मी आठ किलोमीटर के दायरे में 40 घाटों पर सुरक्षा व्यवस्था देख रहे हैं. उन्होंने बताया, अलग-अलग दिशाओं से आ रहे लोगों को मेला क्षेत्र में उनकी सहूलियत के हिसाब से घाटों पर भेजा जा रहा है.