लखनऊ/प्रयागराज: प्रयागराज में चल रहे कुंभ मेले में शुक्रवार को एक और विश्व रिकार्ड दर्ज किया गया. कुंभ मेला क्षेत्र के सेक्टर 1 में हजारों की संख्या में 8 घंटे तक लगातार छात्र-छात्राएं और आम नागरिकों ने पेंटिंग वॉल पर अपने हाथों के रंग-बिरंगे छाप से ‘जय गंगे’ थीम की पेंटिंग बनाई. इस दौरान गिनीज विश्व बुक रिकार्ड के निर्णायक मंडल के प्रमुख ऋषिनाथ की टीम ने पूरे कार्यक्रम की मॉनिटरिंग में लगे रहे. हस्तलिपि कार्यक्रम में स्कूलों के विद्यार्थी सहित संस्थाओं के वालिंयटर्स ने भी भाग लिया.

Kumbh Mela 2019: महाशिवरात्रि पर है कुंभ का आखिरी स्‍नान, रोजाना आ रहे इतने लाख श्रद्धालु

मेला प्रशासन द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार, “इसके पहले सियोल (साउथ कोरिया) में 4675 लोगों के एक वाल पर पेंटिंग करने का रिकॉर्ड था. मंडलायुक्त (कमिश्नर) आशीष गोयल ने बताया कि माई पेंट सिटी योजना के अंतर्गत पूरे प्रयागराज शहर के चौराहों, पुलों, भवनों आदि को कलाकृतियों से सजाया गया है.” इस अभियान में लगे सभी छह हजार कलाकार शुक्रवार को गंगा पंडाल में कैनवास पर पेंटिंग की. हर गतिविधि गिनीज वल्र्ड रिकार्ड के प्रतिनिधियों की मौजूदगी में पूरी हुई.

चारधाम यात्रा 2019: कब खुलेंगे बद्रीनाथ धाम के कपाट, जानिए यहां का ऐतिहासिक महत्‍व

उन्होंने बताया कि शटल बसों के संचालन में विश्व कीर्तिमान स्थापित करने के बाद अब हस्तलिपि चित्रकारी में भी विश्व कीर्तिमान का प्रयास किया गया है. गौरतलब है कि इसके पहले 28 फरवरी को एक साथ 510 बसों का एक ही रूट पर संचालन करके विश्व रिकॉर्ड कायम किया गया और अब एक साथ हजारों की संख्या में पेंटिग करवाकर एक नया रिकॉर्ड गिनीज बुक में दर्ज करवाया गया.

Kumbh 2019: कुंभ में आने वाले नागा साधुओं के बारे में वो बातें, जिससे आप भी होंगे अंजान