इलाहाबाद. भारतीय रेल यहां होने वाले अर्ध कुंभ मेले के लिए 800 विशेष ट्रेनें चलाने जा रही है, जिनके 1,600 डिब्बों पर ‘कुंभ चलो’ के नारे के साथ प्रयाग में डुबकी लगाते नागा साधुओं और लोगों की तस्वीरें लगी होंगी. साथ मेले की थीम पर डिजायन किया गया एक विशेष लोगो भी लगा होगा. अर्ध कुंभ का आयोजन अगले महीने से शुरू होगा, जिसमें 12 करोड़ लोगों के भाग लेने की उम्मीद जताई जा रही है. धार्मिक यात्रियों के लिए चलाई जा रही विशेष ट्रेनों के डिब्बों में राख से लिपटे नागा साधुओं की तस्वीरों के साथ ही शाही स्नान और शाम की आरती की तस्वीरें भी लगाई जाएंगी.

कब शुरू हो रहा है कुंभ मेला, क्या होगा इस बार नया, जानिये

उत्तर मध्य रेलवे का मुख्यालय हाल में नाम बदले गए प्रयागराज में है. यहां से मेले की निगरानी की जाएगी, जिसमें गंगा, जमुना और पौराणिक सरस्वती नदी के किनारे 12 करोड़ लोगों के जुटने का अनुमान है, जोकि ब्रिटेन की आबादी का दोगुना है. इस मेले में देश विदेश के श्रद्धालु जुटेंगे, जिसका आयोजन 15 जनवरी से 4 मार्च तक किया जा रहा है. राज्य सरकार के मुताबिक, 15 जनवरी (मकर संक्रांति) को 1.2 करोड़, 21 जनवरी (पौष पूर्णिमा) को 55 लाख, 4 फरवरी (मौनी अमावस्या) को 3 करोड़, 10 फरवरी (बसंत पंचमी) को 2 करोड़, 19 फरवरी (माघी पूर्णिमा) को 1.6 करोड़ और 4 मार्च (महाशिवरात्रि) को 60 लाख श्रद्धालुओं के आने का अनुमान है.

प्रयाग कुंभ 2019: प्रदेश की जेलों में जोर-शोर से चल रही तैयारियां, कैदियों में उत्साह

उत्तर मध्य रेलवे के महाप्रबंधक राजीव चौधरी ने बताया, “इलाहाबाद की नियमित ट्रेन सेवाओं में डिब्बों की संख्या बढ़ाई गई है. इसके साथ ही 800 विशेष ट्रेनें चलाई जाएंगी. यह सभी करीब तीन महीने तक चलने वाले इस मेले के दौरान चलाई जाएंगी.” चौधरी ने कहा कि इसके अलावा ट्रेन के डिब्बों पर उत्तर प्रदेश के पर्यटन से जुड़ी तस्वीरें भी होंगी. कुंभ मेले के लिए उत्तर प्रदेश सरकार भी अपने स्तर से विशेष तैयारियां कर रही है. इसके तहत इलाहाबाद में कुंभ मेले के दौरान श्रद्धालुओं के रहने, स्नान करने और अन्य व्यवस्थाएं की जा रही हैं.