UP crime: पिता मजदूरी किया करते थे और बेटी रातोंरात करोड़पति बन गई थी. जब पोल खुली तो सभी हैरान रह गए. घटना उत्तरप्रदेश के बलिया जिले के बांसडीह क्षेत्र के रूकनपुरा गांव की है जहां सूबेदार साहनी की बेटी सरोज के बैंक खाते में दस करोड़ रुपये आने से हड़कंप मच गया. सरोज को ये बात तब पता चली जब वह अपनी मां के साथ बैंक पंहुची, बैंक के कर्मचारियों ने उसके बैंक खाते में दस करोड़ रुपये की बात बताई तो सरोज और उसकी मां हैरान रह गईं. Also Read - Uttar Pradesh News: यूपी के एटा में ब्लैकमेलिंग से परेशान 16 साल की लड़की ने की खुदकुशी

बैंक ने सरोज के खाते से लेनदेन पर पूरी तरह से रोक लगा दी है. उसके बाद सरोज ने इस मामले को लेकर बांसडीह कोतवाली में गुहार लगाई है और लिखित शिकायत कर कार्रवाई का अनुरोध किया है. सरोज का खाता इलाहाबाद बैंक की बांसडीह शाखा में है. सरोज खाते में लेनदेन करने बैंक पहुंची तो बैंककर्मियों ने उसे ये जानकारी दी.
बैंक कर्मचारियों ने सरोज को ये जानकारी दी कि उसके खाते में जमा धनराशि नौ करोड़ 99 लाख चार हजार सात सौ छत्तीस रुपये हैं.कर्मचारियों ने यह भी बताया कि बैंक प्रबंधन ने उसके खाते के लेन-देन पर रोक लगा दी है. इतना ही नहीं उसके बैंक खाते से कई बार रुपये के लेन-देन की जानकारी भी उसे दी गई. Also Read - कोरोना काल में फिर बदला UP में शराब दुकानों का समय, जानिये क्या होगी अब नई टाइमिंग....

करोड़ों की बात सुनते ही हतप्रभ सरोज बांसडीह कोतवाली पहुंची और पुलिस को इस पूरे मामले की जानकारी दी. सरोज ने मामले में शिकायती पत्र देकर कार्रवाई का अनुरोध किया है. शिकायती पत्र में सरोज ने जानकारी दी है कि इलाहाबाद बैंक में वर्ष 2018 में उसका खाता खुला है और दो साल पहले ही कानपुर देहात जनपद के ग्राम पाकरा, पोस्ट बाधीर के नीलेश कुमार नाम के व्यक्ति ने उसे फोन कर पीएम आवास दिलाने के नाम पर आधार कार्ड व फोटो आदि उपलब्ध कराने को कहा था. Also Read - हाथरस कांड पर SC का फैसला-अभी केस ट्रायल यूपी में ही होगा, तुरंत ट्रांसफर की जरूरत नहीं

सरोज ने आधार कार्ड की फोटो कॉपी व अन्य कागजात भी नीलेश के पते पर भेज दिए. इसके बाद सरोज को डाक से एटीएम कार्ड मिला. नीलेश ने सरोज से उसका एटीएम कार्ड मांगा तो सरोज ने निलेश को एटीएम कार्ड भी डाक से रजिस्टर्ड भेज दिया. सरोज ने इसके बाद निलेश को अपने पिनकोड की भी जानकारी दे दी.

पुलिस को दिए गए शिकायती पत्र में सरोज ने कहा है कि उसे नहीं मालूम कि रुपये कहां से आए हैं. उसने यह भी कहा है कि उसे खाते में जमा पैसे से कोई सरोकार नहीं हैं. नीलेश के जिस मोबाइल नंबर से उसकी बातचीत होती थी, वह मोबाइल स्विच ऑफ बता रहा है. बांसडीह कोतवाली के निरीक्षक राजेश कुमार सिंह ने बताया कि पुलिस मामले की छानबीन कर रही है। जांच के बाद आवश्यक वैधानिक कार्रवाई की जाएगी.

इलाहाबाद बैंक बांसडीह शाखा के प्रबंधक सरोज कुमार सिंह ने बताया कि कोतवाली क्षेत्र के रुकनपरा निवासी सरोज कुमारी पुत्री सूबेदार साहनी का खाता 2-8-2018 को खुला था. इस खाते में 10-20 हजार करके कई बार जमा हुए व निकाले गए हैं. 2-8-2018 से 22-01-2020 तक खाते में 1,75,9120 जमा हुए हैं और 1753857 निकाल भी लिए गए हैं.

इस बीच खलीलाबाद ब्रांच से फोन पर सूचना मिली कि इस अकाउंट नंबर से ऑनलाइन गलत ट्रांजेक्शन हो रहा है. इस सूचना पर हमारे पूर्व रहे शाखा प्रबंधक द्वारा 15-2-2020 को इस खाते पर अनुमानित दस करोड़ का होल्ड लगा दिया गया. वर्तमान में इसके खाते में 5263.05 हैं.