लखनऊ: यूपी पुलिस को अक्सर आलोचनाओं का सामना करना पड़ता है, लेकिन अक्सर पुलिस विपरीत परिस्थितियों में भी ड्यूटी करने में पीछे नहीं हटती. यूपी के जिला झांसी की शहर कोतवाली में एक ऐसी ही लेडी कांस्टेबल हैं, जो खाकी वर्दी का कर्तव्य और मां होने की जिम्मेदारी एक साथ निभा रही हैं. ड्यूटी पर होते हुए अपने बच्चे को लेकर पहुंचती हैं. बच्चे को काउंटर या मेज पर लिटाकर कोतवाली में ड्यूटी निभाती हैं. लेडी कांस्टेबल की यह तस्वीर सोशल मीडिया पर बड़े पैमाने पर वायरल हो रही है. झांसी मंडल के डीआईजी सुभाष बघेल ने लेडी कांस्टेबल को नकद राशि देकर पुरस्कृत किया है.

यूपी पुलिस की नई जुगाड़: एनकाउंटर के बीच नहीं चली पिस्टल, ‘ठांय-ठांय’ चिल्लाकर पकड़ लिया बदमाश

‘सब मैनेज करने की कोशिश करती हूं’
लेडी कांस्टेबल का नाम अर्चना है. अर्चना कुछ माह पहले मां बनी, जितना अवकाश मिल सकता था, उन्हें मिला. इसके बाद ड्यूटी पर लौटना पड़ा, लेकिन नवजात बच्चे को घर पर अकेला छोड़ना संभव नहीं, इसलिए ड्यूटी के बच्चे को साथ में ही रखती हैं. कोतवाली में अर्चना बच्चे को काउंटर या मेज पर लिटा देती हैं, और फिर कोतवाली के अपने काम निपटाती हैं. वह बताती हैं कि मुश्किल होती है, लेकिन ड्यूटी करनी है और मां होने की जिम्मेदारी भी पूरी करनी है, इसलिए सब मैनेज करना पड़ता है. पुलिस जैसे विभाग में अक्सर तनाव होता है, काम ज्यादा होता है, फिर भी वह सामंजस्य बैठाना बनाना पड़ता है. वह बताती है कि उन्होंने बच्चे का मुंडन भी कोतवाली के मंदिर में ही कराया था क्योंकि ड्यूटी भी करनी थी. इसमें पुलिस विभाग के कई लोग शामिल हुए थे.

वायरल तस्वीर आईपीएस नवनीत सिकेरा ने भी की शेयर
अर्चना की ये तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है. झांसी के मुकेश वर्मा ने ये तस्वीर ली और इसे अपने फेसबुक पेज पर शेयर किया. इसके बाद सोशल मीडिया पर ये तस्वीर तेजी से फैल गई. चर्चित आईपीएस नवनीत सिकेरा ने भी इस तस्वीर को शेयर किया है. आईपीएस ने इस तस्वीर के साथ लिखा है कि ‘मां अपने फर्ज को किस प्रकार निभा रही है देखें. झांसी के कोतवाली थाने में तैनात महिला आरक्षी अर्चना जो अपनी वर्दी का फर्ज भी पूरी तरह से निभा रही और मां का भी, पुलिस विभाग एक ऐसा विभाग है जहाँ त्यौहार हो या कोई भी खुशियों का दिन पुलिस जनता की खुशियों को मनाने के लिए उनकी सुरक्षा में तैनात रहकर अपनी खुशियो का गला घोंटती है, उसी प्रकार अर्चना को अपने नन्हे-मुन्ने बच्चे की परवरिश देखभाल भी करनी है और वर्दी का फर्ज भी अदा करना है.’