ललितपुर: टीसी (ट्रांसफर सर्टिफिकेट) और करैक्टर सर्टिफिकेट पर अक्सर उज्ज्वल भविष्य की कामना ही जाती है, लेकिन ललितपुर जिले में टीचर ने टीसी पर कुछ ऐसा लिखा कि स्टूडेंट एडमिशन के लिए भटक रही है, लेकिन उसे कहीं दूसरे स्कूल में एडमिशन नहीं मिल रहा है. इससे वो परेशान है. मामले ने इतना तूल पकड़ लिया कि शिक्षा विभाग ने टीचर के खिलाफ कार्रवाई की बात कही है. Also Read - यूपी में जगह-जगह बम रखे होने की अफवाह, कई जिलों में धारा 144 लगाई गई, पुलिस सतर्क

टीसी पर टीचर ने लिखा ‘छात्रा का करैक्टर खराब है’
मामला ललितपुर जिले के गद्याना गांव का है. यहां की रहने वाली नौवीं छात्रा ने दूसरे स्कूल में एडमिशन के लिए अपने स्कूल से टीसी ली. यही टीसी उसके एडमिशन नहीं मिलने की वजह बन गई. दरअसल, टीसी पर उसके टीचर ने ‘छात्रा का करैक्टर खराब है’ लिख दिया. इसके लिए चलते वह जिस स्कूल में गई, वहां ये लिखा देख एडमिशन देने से इनकार कर दिया गया. पीड़ित छात्रा का आरोप है कुछ महीन पहले टीचर उसे बेरहमी से पीटा था. इसकी शिकायत पुलिस से की गई थी. इसी खुन्नस में टीचर ने ऐसा किया है. मामला सामने आने के बाद बेसिक शिक्षा अधिकारी ने जांच के बाद शिक्षक के खिलाफ कार्रवाई करने की बात कही है. Also Read - UP: Noida में एनकाउंटर में गोंडा के मेडिकल छात्र को ऐसे छुड़ाया, 70 लाख फिरौती की थी मांग

बदला लेने के लिए ऐसा काम
पीड़ित के परिवार ने बताया कि कुछ महीन पहले टीचर उसे बेरहमी से पीटा था. इसकी शिकायत पुलिस से की गई थी. इस पर टीचर ने उस समय तो परिवार से माफी मांग ली थी. लेकिन घटना के कुछ महीनों के बाद जब पीड़ित छात्रा ने दूसरे स्कूल में एडमिशन के लिए टीसी निकलवाई तो टीचर ने बदले की भावना से टीसी पर लिखा,’छात्रा का चरित्र खराब है Also Read - महाराष्ट्र और राजस्थान के बाद अब यूपी में ईंट से पीट कर पुजारी की निर्मम हत्या, घटना स्थल की फारेंसिक जांज शुरू

पढ़ाई में तेज है छात्रा
गांव वालों ने बताया कि बच्ची पढ़ाई में बहुत तेज है. कुछ समय पहले ही पिता का साया सिर से उठा, जिसके बाद मां ने अपने बेटी को पढ़ाने की जिम्मेदारी ली. लेकिन शिक्षक की एक तुच्छ करतूत के बाद आज मासूम को स्कूल में एडमिशन के लिए दर-दर की ठोकरे खानी पड़ रही हैं. मामला सामने आने के बाद बेसिक शिक्षा अधिकारी ने जांच के बाद शिक्षक के खिलाफ कार्रवाई करने की बात कही है. उन्होंने कहा कि छात्रा के भविष्य को ध्यान में रखकर आगे की कार्रवाई की जाएगी. उन्होंने कहा कि एक छोटे बच्चे के साथ इस तरह का व्यवहार करना गलत है.