ललितपुर: यूपी के ललितपुर जिले के मड़ावरा इलाके एक एसडीएम हेमेंद्र कुमार ने अपने सिर में गोली मार खुदकुशी कर ली. 48 वर्षीय एसडीएम ने सुसाइड करने के लिए होमगार्ड से उसकी रायफल मांगी. होमगार्ड एसडीएम की सुरक्षा में तैनात था. रायफल देने के बाद होमगार्ड कमरे के बाहर खड़ा हो गया. अगले ही पल आवाज सुनकर कमरे की ओर दौड़ा तो देखा एसडीएम खून से लथपथ पड़े थे. एसडीएम ने ऐसा क्यों किया यह अभी स्पष्ट नहीं हुआ है. बताया जा रहा है कि वह निजी कारणों से मानसिक तनाव में थे. पुलिस अधिकारियों का कहना है कि घटना की जांच की जा रही है. Also Read - coronavirus cases in uttar pradesh: सामने आए 30 नए मामले, 26 तबलीगी जमात से जुड़े लोग, आगे बढ़ सकता है लॉकडाउन

महिला सिपाही ने की खुदकुशी, सुसाइड नोट में लिखा- छुट्टी के लिए भीख मांगना पड़े तो ये ठीक नहीं Also Read - यूपी पुलिस टीम पर भीड़ ने किया हमला, IPS अफसर घायल, पुलिस चौकी जलाने की कोशिश

सुबह वीआईपी ड्यूटी पर रहे
बताया जा रहा है कि एसडीएम हेमेंद्र कुमार आज सुबह केंद्रीय मंत्री उमा भारती के दौरे के चलते वीआईपी ड्यूटी पर थे. ड्यूटी के बाद वह किसानों के बीच पहुंचे. इसके बाद अपने आवास पर आ गए. बताया जा रहा है कि वह खाना खा रहे थे, इसी बीच उनकी किसी से फोन पर बात हुई. इसके ठीक बाद ही उन्होंने होमगार्ड की रायफल मांगी. वह बंदूक लेकर कमरे में गए और दो मिनट में ही गोली चलने की आवाज आई. गोली चलते ही होमगार्ड कमरे में दौड़ कर पहुंचा. यहां एसडीएम खून से लथपथ थे. उनकी मौके पर ही मौत हो गई. घटना के बाद पुलिस प्रशासन व आलाधिकारी मौके पर पहुंच गए. पुलिस का कहना है कि कई पहलुओं पर जांच की जा रही है कि आखिर ऐसा क्यों हुआ. Also Read - UP Corona Updates: 12 घंटे में कोरोना के 16 नए पॉजिटिव मरीज, राज्य के ये शहर बने कोरोना 'हॉटस्पाट'

IPS ने गूगल पर सर्च किए थे सुसाइड के तरीके, 7 लाइन के नोट में पत्नी के लिए लिखा ‘I LOVE YOU’

बरेली के रहने वाले हेमेंद्र तनाव में थे
हेमेंद्र कुमार मड़ावरा तहसील इलाके में दो माह पहले ही एसडीएम के तौर पर तैनात हुए थे. वह बरेली के निवासी थे. हेमेंद्र 10 साल तक बनारस में तहसीलदार रहे. इसके बाद उन्हें प्रमोशन मिला था. बताया जा रहा है कि एसडीएम का परिवार मुरादाबाद रहता है. उनकी 14 साल की बेटी व 10 साल का बेटा है. एसपी डॉ. ओपी सिंह ने बताया कि एसडीएम का बेटा बीमार रहता है. पत्नी की तबियत भी ठीक नहीं रहती. इससे वह परेशान रहते थे. वहीँ, एसडीएम की पत्नी का कहना है कि ललितपुर ट्रांसफर हो जाने के चलते वह तनाव में रहते थे. घटना से परिवार में भी हड़कंप की स्थिति है.