बहराइच (उत्तर प्रदेश): घर के बाहर मौजूद एक आठ साल की बच्ची को तेंदुए ने पकड़ लिया. तेंदुए ने लड़की को मुंह में दबा लिया और जंगल की ओर ले जाने की कोशिश करने लगा. घबराई लड़की ने हाथ पैर पटके. वह चीखने लगी. चीखें सुन लोग एकत्रित हो गए. इसके बाद तेंदुआ उसे छोड़ कर भाग गया. इसके बाद भी लड़की को बचाया नहीं जा सका. इससे उसकी मौत हो गई. Also Read - असम में तेंदुए से हैवानियत, पहले पीट कर मार डाला, दांत निकाले, फिर शोर मचाते हुए शव को घुमाया

घटना उत्तर प्रदेश के बहराइच के धोबियानपुर गांव की है. तेंदुए के हमले में एक आठ वर्षीय बच्ची की मौत हो गई. कतर्नियाघाट वन्यजीव अभयारण्य के पास जब लड़की अपने घर के बाहर थी तभी तेंदुए ने उस पर हमला किया. प्रभागीय वनाधिकारी (डीएफओ) जीपी सिंह के अनुसार, “तेंदुए ने लड़की को पकड़ लिया और उसे वन क्षेत्र में ले जाने की कोशिश कर रहा था. ग्रामीणों ने उसकी चीखें सुनीं और चिल्लाना शुरू कर दिया. तेंदुआ फिर लड़की को छोड़कर जंगल के अंदर भाग गया.” Also Read - लॉकडाउन के बीच सुनसान शहर तो कब्जा करने पहुंचा तेंदुआ, फिर ये हुआ...

लड़की की मौके पर ही मौत हो गई और उसके शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया. डीएफओ ने कहा कि ग्रामीणों से कहा जा रहा है कि वे शाम को अकेले बाहर न निकलें. इससे पहले 4 जून को, दल्लापुरवा गांव में एक तेंदुए ने तीन साल के बच्चे को मार डाला था और उसी दिन पाठा गौड़ी में एक वन कर्मियों और दो पुलिसकर्मियों सहित सात लोगों को घायल कर दिया था. वन विभाग ने बाद में उस तेंदुए को पकड़ लिया था. Also Read - लॉकडाउन: 14 साल के बच्चे के आगे-पीछे क्यों घूमी यूपी पुलिस, लोगों से कहा- सबको भेज दूंगा जेल, फिर...