लखनऊ: उत्तर प्रदेश में अब शराब खरीदने के लिए ज्यादा रुपए खर्च करने होंगे. राज्य मंत्रिमंडल ने बुधवार को देशी और विदेशी मदिरा के दामों में 5 रुपए से लेकर 400 रुपए तक की बढ़ोत्तरी कर दी है. ये बढ़ोत्‍तरी इसमें देशी- विदेश शराब की विभिन्‍न श्रेणियों में की गई है. Also Read - वर्क फ्रॉम होम: 'बॉस' रात में करते हैं VIDEO CALL, कम कपड़ों में करते हैं मीटिंग, परेशान हैं महिलाएं

प्रदेश के वित्त मंत्री सुरेश कुमार खन्ना ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक में लिए गए इस निर्णय की जानकारी देते हुए बताया कि शराब के दामों में यह वृद्धि तत्काल प्रभाव से लागू होगी. उन्होंने बताया कि इससे सरकार को इस साल करीब 2350 करोड़ रुपए का राजस्व मिलने का अनुमान है. Also Read - Coronavirus In Pakistan: पाकिस्तान में संक्रमण के 2,964 नए मामले, आंकड़ा 72 हजार के पार

खन्ना ने बताया कि मंत्रिमंडल ने देशी शराब पर मात्र पांच रुपए की वृद्धि के प्रस्ताव को मंजूरी दी है, अब 65 रुपए की बोतल 70 रुपए में, जबकि 75 वाली 80 रुपए में मिलेगी. Also Read - Coronavirus In World Update: दुनिया में 61 लाख संक्रमित, 3.71 लाख से अधिक मौतें

वित्त मंत्री ने बताया कि विदेशी मदिरा की इकॉनॉमी और मीडियम क्लास में 180 मिलीलीटर (एमएल) तक 10 रुपए, 180 से 500 एमएल तक 20 रुपए और 500 एमएल से अधिक की बोतल पर 30 रुपए बढ़ाए गए हैं. इसके अलावा रेगुलर और प्रीमियम श्रेणी में 180 एमएल तक 20 रुपए, 180 से 500 तक 30 रुपए और 500 एमएल से अधिक पर 50 रुपये की वृद्धि की गई है.

खन्ना ने बताया कि विदेश से आयातित शराब की 180 एमएल तक की बोतल पर 100 रुपए, 500 एमएल तक 200 और 500 एमएल से अधिक की बोतल पर 400 रुपए बढ़ाए गए हैं.

वित्त मंत्री ने कहा, लॉकडाउन के बाद से ही प्रदेश में शराब की बिक्री बंद हो गई थी, लोगों को जब शराब नहीं मिली तो उन्होंने अवैध रूप से बनी शराब पीना शुरू किया और गांव- गांव में अवैध रूप से शराब बनने लगी. गाजियाबाद के मोदीनगर में तीन लोगों ने शराब नहीं मिलने पर सेनेटाइजर पी लिया, जिससे उनकी मौत हो गई, कानपुर में भी अवैध शराब पीने से तीन लोगों की मृत्यु हुई. खन्ना ने बताया कि चार मई तक अवैध रूप से बनाई गई 80,020 लीटर शराब जब्त कर कुल 3,627 लोगों को गिरफ्तार किया था.